Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग से बोले पीएम मोदी- भारत-चीन की संस्कृति नदी के किनारे स्थित, दोनों देश का विकास यहीं हुआ

वुहान में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग की मुलाकात हुई। चीनी राष्ट्रपति में पीएम मोदी का गर्मजोशी के साथ स्वागत किया। गौरतलब है कि दोनों नेता वुहान में होने वाली दो दिवसीय अनोखी शिखर वार्ता के लिए पूरी तरह तैयार हैं। पीएम मोदी दो दिन की यात्रा पर चीन आए हैं। प्रधानमंत्री बनने के बाद नरेंद्र मोदी का यह चौथा चीन दौरा है।

चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग से बोले पीएम मोदी-  भारत-चीन की संस्कृति नदी के किनारे स्थित, दोनों देश का विकास यहीं हुआ
X

वुहान में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग की मुलाकात हुई। चीनी राष्ट्रपति में पीएम मोदी का गर्मजोशी के साथ स्वागत किया। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने चीनी राष्ट्रपति शी जिनपिंग से कहा कि भारत और चीन की संस्कृति नदी के किनारे स्थित है। अगर हम भारत में मोहनजो दरो और हरप्पा सभ्यताओं के बारे में बात करते हैं, तो सभी विकास नदी के किनारे हुए।

पीएम मोदी ने कहा कि जब मैं गुजरात का मुख्यमंत्री था तब मुझे वुहान जाने का अवसर मिला। मैंने 'थ्री गोर्गेस बांध' के बारे में बहुत कुछ सुना था। जिस गति के साथ आपने इसे बनाया मैं काफी प्रेरित हुआ। मैं एक अध्ययन दौरे पर यहां आया था और बांध पर एक दिन बिताया था।

गौरतलब है कि दोनों नेता वुहान में होने वाली दो दिवसीय अनोखी शिखर वार्ता के लिए पूरी तरह तैयार हैं। पीएम मोदी दो दिन की यात्रा पर चीन आए हैं। प्रधानमंत्री बनने के बाद नरेंद्र मोदी का यह चौथा चीन दौरा है।

इस मुलाकात के दौरान हुबेई म्यूजियम में रंगारंग कार्यक्रमों की प्रस्तुति के साथ पीएम मोदी का स्वागत किया गया। इस म्यूजियम में बड़ी संख्या में राष्ट्रीय और सांस्कृतिक पुरावशेष मौजूद हैं।

इस कार्यक्रम के बाद दोनों नेताओं के बीच मीटिंग हुई। इस मीटिंग में दोनों देशों के प्रतिनिधि भी शामिल रहे। भारत की तरफ से राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोवाल भी इस मुलाकात में शामिल रहे।

मोदी - शी की मुलाकात

पीएम मोदी शी जिनपिंग से इस मुलाकात के बाद कई और कार्यक्रमों में शिरकत करेंगे। दोनों नेताओं के बीच होने वाली बैठक में दोनों पक्षों के छह-छह शीर्ष अधिकारी मौजूद होंगे। इसके बाद दोनों नेता प्रसिद्ध ईस्ट लेक में आमने - सामने बैठ कर रात का भोजन करेंगे।

कल का कार्यक्रम

दोनों नेताओं के बीच इसके बाद की बातचीत कल सुबह 10 बजे झील के किनारे टहलते और नौकायन करते हुए शुरू होगी। फिर दोपहर के भोजन के साथ उनकी बातचीत का सिलसिला थमेगा।

2014 में हुई थी पहली मुलाक़ात

दोनों नेताओं के बीच अनौपचारिक मुलाकात 2014 में शुरू हुई थी, जब मोदी ने गुजरात के साबरमती आश्रम में शी की मेजबानी की थी। उसके बाद से दोनों ने कई अंतरराष्ट्रीय बैठकों के दौरान एक-दूसरे से मुलाकात और बातचीत की।

मोदी की चीन यात्रा

गौरतलब है कि राष्ट्रपति शी के साथ होने वाली अनौपचारिक वार्ता के लिए प्रधानमंत्री मोदी आज सुबह यहां पहुंचे। पिछले साल डोकलाम विवाद को लेकर दोनों देशों के संबंधों में खटास आ गई थी।

भारत-चीन संबंध

लेकिन पीएम मोदी और जिनपिंग की इस वार्ता को दोनों देशों के बीच संबंध सुधारने और फिर से विश्वास बनाने के प्रयास के तौर पर देखा जा रहा है। लेकिन यह वार्ता दोनों की ‘खुले दिल से' होने वाली अनौपचारिक मुलाकात होगी।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story