Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

''नगर गैस परियोजना'' का शिलान्यास, प्रदूषण और महंगे पेट्रोल से मिलेगी मुक्ति

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज पीएनजीआरबी के तहत नगर गैस परियोजना का शिलान्यास किया। इस कार्यक्रम के तहत घर-घर पहुंचाई जाएगी रसोई गैस।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज विज्ञान भवन में पीएनजीआरबी के तहत नगर गैस परियोजना का शिलान्यास किया। इस कार्यक्रम के तहत घर-घर रसोई गैस पहुंचाई जाएगी।

इससे अब लोगों को सिलेंडर बुक कराने के झंझट से मुक्ति मिल जाएगी।

जानिए इस परियोजना के शिलान्यास के मौके पर पीएम मोदी ने क्या कहा-

सरकार गैस आधारित अर्थव्यवस्था के सभी पहलुओं पर ध्यान दे रही है।

देश के गैस बुनियादी ढांचे को मजबूत करने के लिए, एलएनजी टर्मिनलों की संख्या बढ़ाने और राष्ट्रव्यापी गैस ग्रिड और सिटी गैस वितरण के नेटवर्क पर काम करने के लिए एक साथ काम किया जा रहा है।

- - 2014 तक देश भर में केवल 66 जिले सिटी गैस वितरण के दायरे में थे, आज यह संख्या 174 जिलों तक पहुंच गई।

- अगले 2-3 वर्षों में इसकी पहुंच 400 जिलों तक फैल जाएगी।

- पीएम मोदी ने नेचुरल गैस का ज्यादा से ज्यादा इस्तेमाल करने पर जोर दिया।

- नेशनल गैस ग्रीड विकसित किया जा रहा है।

मिलेगी प्रदूषण से मुक्ति

इस परियोजना के अंतर्गत 22 राज्यों के 129 जिलों में 65 भौगोलिक क्षेत्रों में काम की शुरुआत होगी।

इसमें अगले 8 वर्षों में करीब 1.43 लाख घरेलू पीएनजी कनेक्शन, 46 सीएनजी पंपों की स्थापना और 1662 इंच-किलोमीटर पाइप लाइन शामिल है।

कोयले व अन्य तरल ईंधन की तुलना में प्राकृतिक गैस ज्यादा बेहतर, सस्ता, सुरक्षित और पर्यावरण अनुकूल ईंधन है।

विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) द्वारा मई 2018 में जारी आंकड़ों के अनुसार पीएम 2.5 कॉन्सेंट्रेशन की दृष्टि से विश्व के 15 सर्वाधिक प्रदूषित शहरों में से 14 भारत में हैं।

पेट्रोल की तुलना में सस्ती है प्राकृतिक गैस

यही नहीं प्राकृतिक गैस पेट्रोल की तुलना में 60 प्रतिशत और डीजल की तुलना में 45 प्रतिशत सस्ती है।

उल्लेखनीय है कि भारत के ऊर्जा स्रोत में सिर्फ 6 प्रतिशत प्राकृतिक गैस है जबकि विश्व में इसका प्रतिशत 23.4 प्रतिशत है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दिसंबर 2015 में सीओपी 21 पेरिस सम्मेलन में यह प्रतिबद्धता जताई थी कि सन 2030 तक भारत कार्बन उत्सर्जन को 2005 के स्तर, जो 33 प्रतिशत था से कम कर देगा।

जमीन के तीन मीटर नीचे डाली गई पाइप लाइन

इंडियन ऑयल कॉरपोरेशन लिमिटेड के बिहार-झारखंड के एक्जिक्यूटिव डायरेक्टर शैलेंद्र कुमार शर्मा ने बताया कि पटना के उपभोक्ताओं को एलपीजी सिलेंडर की जगह पीएनजी सुविधा जल्द उपलब्ध हो जाएगी।

इसका मतलब यह है कि पाइप के जरिए गैस सीधे घरों तक पहुंच जाएगी। यह पाइप लाइन जमीन से 3 मीटर नीचे लगायी जा रही है। गै

स इन्फ्रास्ट्रक्चर के विकास एवं विपणन में सक्रिय कंपनी थिंक गैस परियोजना के वरिष्ठ उपाध्यक्ष जसबीर सिंह ने बताया कि गैस को सीजीडी नेटवर्क के विकास एवं संचालन के लिए लुधियाना, बरनाला, मोगा, जालंधर, कपूरथला और एसबीएस नगर में कुल 12 हजार वर्ग किलोमीटर क्षेत्रफल कवर करने का अधिकार मिला है।

इसके अतिरिक्त कंपनी को मध्य प्रदेश में भोपाल और राजगढ़ के नौ हजार वर्ग किलोमीटर और बिहार के बेगुसराय में दो हजार वर्ग किलोमीटर क्षेत्रफल को कवर करने का भी अधिकार मिला है।

Loading...
Share it
Top