logo
Breaking

''सरकार सोती रही और चीनी सैनिकों ने डोकलाम पर किया कब्जा''

डोकलाम विवाद को लेकर कांग्रेस ने सरकार पर सीधा हमला बोला है। गुरुवार को कांग्रेस पार्टी ने आरोप लगाया कि डोकलाम पर चीनी सैनिकों के कब्जे को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और विदेश मंत्री सुषमा स्वराज देश को गुमराह कर रहे हैं।

डोकलाम विवाद को लेकर कांग्रेस ने सरकार पर सीधा हमला बोला है। गुरुवार को कांग्रेस पार्टी ने आरोप लगाया कि डोकलाम पर चीनी सैनिकों के कब्जे को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और विदेश मंत्री सुषमा स्वराज देश को गुमराह कर रहे हैं।

देश की मुख्य विपक्षी पार्टी ने कहा कि सरकार ने भारत की सुरक्षा और सामरिक हितों के साथ समझौता किया है। वहीं सेना प्रमुख बिपिन रावत ने बुधवार को कहा कि दोनों देशों के बीच रिश्ते अब डोकलाम से पहले जैसे हो चुके हैं। अब कोई भी गंभीर समस्या नहीं है।

यह भी पढ़ें- पद्मावत सुप्रीम कोर्ट फैसला: बिहार के मुजफ्फरपुर में सिनेमा हॉल के बाहर जबरदस्त प्रदर्शन-तोड़फोड़

भारतीय सेना भी वहां है। चीनी सैनिक वापस आते हैं तो हम उसका सामना करेंगे। कांग्रेस के प्रवक्ता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने मीडिया से कहा, सैटलाइट तस्वीरों और मीडिया रिपोर्टों से पता चला है कि चीन ने भारतीय सीमा के पास डोकलाम में सैन्य प्रतिष्ठानों की स्थापना कर ली है।

इससे साफ है कि भारत की सुरक्षा और सामरिक हितों के साथ समझौता किया गया है। उन्होंने आगे कहा, ऐसा लगता है कि चीनी सैनिकों ने डोकलाम क्षेत्र पर कब्जा कर लिया और सरकार सो रही थी। यह भी प्रतीत होता है कि चीन भारतीय सीमा के करीब डोकलाम 2.0 की तैयारी कर रहा है।

देश की सीमाओं की सुरक्षा करने में नाकाम

कांग्रेस प्रवक्ता ने व्यंग्यात्मक लहजे में कहा,चुनाव में भाषण की कला में प्रधानमंत्री ने मास्टरी हासिल कर ली है लेकिन वह हमारी सीमाओं की सुरक्षा को सुनिश्चित करने में नाकाम रहे।

यह भी पढ़ें- मुंबई: इजरायल पीएम नेतन्याहू ने 26/11 हमले के सर्वाइवर मोशे होल्ट्सबर्ग से की मुलाकात

सैटलाइट से ली गई तस्वीरें दिखाते हुए सुरजेवाला ने कहा कि डोकलाम में चीन ने दो मंजिला वॉच-टावर, 7 हेलीपैड्स और कई सैन्य प्रतिष्ठान स्थापित कर लिए हैं।

पीएम और रक्षा मंत्री को निर्माण की जानकारी नहीं

सुषमा स्वराज की आलोचना करते हुए सुरजेवाला ने कहा, चीन ने पूरे डोकलाम पठार पर कब्जा जमा लिया, सरकार क्या कर रही है? क्या सरकार, प्रधानमंत्री और रक्षा मंत्री को इन निर्माण कार्यों की जानकारी है।

उन्होंने कहा कि विदेश मंत्री ने अगस्त में बयान जारी कर कहा था कि दोनों देशों के सैनिक पीछे हट रहे हैं। उन्होंने कहा, सुषमा स्वराज ने संसद में भी यही बयान दिया था।

जब हमने विस्तृत जानकारी देने को कहा तो उन्होंने कहा कि दोनों देशों की सेनाएं अपनी-अपनी चौकियों की तरफ लौट रही हैं। ऐसे में उनके बयान पर सवाल उठाने की कोई वजह नहीं थी।'

चीनी सैनिकों के भारतीय क्षेत्र में घुसने की घटना बढ़ीं

कांग्रेस नेता ने मांग की कि सरकार यह बताए कि डोकलाम में ट्राइ-जंक्शन के मसले को कैसे निर्धारित किया जाएगा जब चीन ने पूरे क्षेत्र पर ही अपना कब्जा जमा लिया है।

सुरजेवाला ने कहा कि अक्टूबर में मोदीजी ने एक रैली में डोकलाम मसले को जीत बताया था। उन्होंने कहा कि चीनी सैनिकों के द्वारा भारतीय क्षेत्र में घुस आने की घटनाएं बढ़ी हैं। 2016 में यह 271 थीं और 2017 में 415 बार चीनी सैनिक भारतीय क्षेत्र में घुस आए।

सैटेलाइट तस्वीरों दिखा चीन ने बनाए 7 हेलीपैड

गौरतलब है कि सैटलाइट तस्वीरों के हवाले से जारी एक रिपोर्ट में बताया गया है कि चीन डोकलाम क्षेत्र के उत्तरी हिस्से में 7 हेलीपैड बना चुका है। हथियारों से लैस वाहन भी उसने इस क्षेत्र में तैनात कर रखे हैं।

सैनिकों की मौजूदगी से कुछ दूरी पर भारी मात्रा में सड़क बनाने वाली सामग्री भी मौजूद है। तस्वीरों में इन वाहनों का होना इस ओर संकेत देता है कि चीन वहां पर आगे सड़क बनाने की कोशिश कर सकता है।

ये तस्वीरें जनवरी की बताई गई हैं। पिछले साल 16 जून को डोकलाम में सड़क बनाने पर दोनों देशों का विवाद 73 दिन चला था।

रावते बोले-दोनों देशों के रिश्तों में सुधार

दूसरी तरफ, सेना प्रमुख बिपिन रावत ने दोनों देशों में तनाव कम करने के लिए अपनाए गए तरीकों की भी जानकारी दी। बताया, सीमा पर दोनों ही देशों के सैनिकों के बीच लगातार बातचीत हो रही है। हमने आपस में पर्सनल मीटिंग शुरू कर दी है।

जमीनी स्तर पर भी कमांडरों के बीच बातचीत हो रही है। इससे दोनों देशों के बीच के रिश्ते डोकलाम विवाद से पहले थे,अब वैसे हो चुके हैं। डोकलाम में भारत-चीन की सेना 73 दिनों तक आमने-सामने थीं। यह टकराव 28 अगस्त, 2017 को खत्म हुआ था।

Loading...
Share it
Top