Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

वित्त वर्ष 1 अप्रैल से हो या 1 जनवरी से, मोदी ने मांगा सुझाव

यह समिति नए वित्त वर्ष की शुरुआत को लेकर हर पहलू पर विचार और जांच करेगी।

वित्त वर्ष 1 अप्रैल से हो या 1 जनवरी से, मोदी ने मांगा सुझाव
नई दिल्ली. पीएम नरेंद्र मोदी ने वित्त वर्ष यानी कि फाइनेंशियल ईयर की तारीख को बदलने का मन बना लिया है। जो अंग्रेजों के जमाने से वित्त वर्ष की तारीख चलती आ रही है। इसे लेकर mygov.in पर प्रधानमंत्री ने राय भी मांगी है और ट्विटर पर इस बात की सूचना दी है। uniindia के मुताबिक, केंद्र सरकार जानना चाहती है कि वित्त वर्ष की शुरुआत को बदल कर अब 1 अप्रैल 31 मार्च की जगह 1 जनवरी से 31 दिसंबर कर दिया जाए या नहीं?
इसके लिए पीएम मोदी ने पूर्व मुख्य आर्थिक सलाहकार डॉ शंकर आचार्य के नेतृत्व में एक समिति भी गठित की है। यह समिति नए वित्त वर्ष की शुरुआत को लेकर हर पहलू पर विचार और जांच करेगी। डॉ शंकर के अलावा इस समिति में पूर्व कैबिनेट सचिव के.एम.चन्द्रशेखर, तमिलनाडु के पूर्व मुख्य वित्त सचिव पी.वी.राजारमण और टर ऑफ पॉलिसी रिसर्च के वरिष्ठ फेलो डॉ राजीव कुमार भी शामिल हैं।
लाइव हिंदुस्तान के अनुसार, प्रधानमंत्री ने इस विमर्श में दिलचस्पी दिखाते हुए ‘mygov.in’ फोरम पर लोगों से सुझाव मांगे हैं। इसकी अंतिम तारीख 30 सितम्बर रखी गई है। बता दें कि इससे पहले यह मुद्दा आज से 30 साल पहले उठा था और 1985 में एल.के.झा समिति ने इस बारे में मूल्यांकन किया था। हालांकि तत्कालीन सरकार ने वित्त वर्ष के कैलेंडर में बदलाव के प्रस्ताव को स्वीकार नहीं किया था।
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलोकरें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Next Story
Top