Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

जेम्स बॉन्ड का एड हुआ बैन, अब नहीं खा पाएंगे पान मसाला!

पियर्स ब्रोज़नन, जेम्स बॉन्ड फिल्म के स्टार ''पान बहार'' के ब्रांड एंबेसडर बना दिए गए जिसकी संभावना भी लोग नहीं कर सकते थे।

जेम्स बॉन्ड का एड हुआ बैन, अब नहीं खा पाएंगे पान मसाला!
नई दिल्ली. कानूनी रूप से और संवैधानिक रूप से, शराब और तंबाकू उत्पादों को बढ़ावा देने के लिए सभी विज्ञापनों को सिनेमा टीवी और इलेक्ट्रॉनिक मीडिया पर प्रतिबंधित किया जा रहा है। वहीं पियर्स ब्रोज़नन, जेम्स बॉन्ड फिल्म के स्टार 'पान बहार' के ब्रांड एंबेसडर बना दिए गए जिसकी संभावना भी लोग नहीं कर सकते थे। अब पियर्स ब्रोज़नन एक देसी अवतार में बस पान बहार का एड करने लगे।
पियर्स ब्रोज़नन एक ऐसे अभिनेता हैं जो अपने स्टाइल, एक्शन और फिल्मों में सुपर कार और लक्जरी घड़ियों का इस्तेमाल करते थे। लेकिन अब वो एक पान मसाला कंपनी की तरफ से उसके लिए पान मसाले का एड भी करने को तैयार हो गए। यह एड सोशल मीडिया पर बहुत जल्द ही वायरल हो गई और उस पर तरह-तरह की प्रतिक्रियाएं भी आनी शुरू हो गई।
केंद्रीय फिल्म प्रमाणन बोर्ड (सीबीएफसी) के मुख्य पहलाज निहलानी ने पियर्स ब्रोज़नन के विज्ञापन पर एक गोलमोल तरह का प्रतिबंध लगा दिया है और अभिनेता के बारे में बहुत कुछ कहा भी।
'मैंने विज्ञापन को देखा नहीं है। लेकिन यह विश्वास करना बहुत मुश्किल है कि पियर्स ब्रोज़नन ने यह एड किया है। पैसा मुश्किल से एक मानदंड हो सकता है जब आप लोगों को मौत बेच रहे हैं। हालांकि, पियर्स ब्रोज़नन ने अपनी मर्जी से यह एड किया होगा लेकिन हम इस एड को प्रमाणित नहीं कर सकते हैं। सभी पान मसाला, तंबाकू, शराब विज्ञापनों को स्वचालित रूप से और बिना शर्त प्रतिबंधित किया जा चुका है।'
विज्ञापन के वायरल होने पर निहलानी हैरान हैं और सोचा कि कैसे पियर्स ब्रोज़नन इस तरह के एक ब्रांड की का एड करने के लिए तैयार हो गए। 'मैं फिर से यह कहना चाहता हूं कि सभी पान मसाला विज्ञापनों पर सार्वजनिक मंचों पर सरकार द्वारा प्रतिबंधित किया गया है। तो क्या यह विज्ञापन कर के ब्रोज़नन क्या हासिल करना की उम्मीद करते हैं?'
निहलानी ने यह भी कहा कि किसी भी विज्ञापन शराब, तंबाकू या पान मसाला के साथ जुड़े एक ब्रांड के नाम का उपयोग करने पर कड़ाई से बिना किसी अपवाद के प्रतिबंध लगा दिया गया है। यहाँ तक कि "क्लब सोडा" शाहरुख खान और सैफ अली खान जैसे सितारों की विशेषता वाली विज्ञापनों को राष्ट्रीय टेलीविजन पर भी विशेषता से मना कर रहे हैं।
खैर, यह वास्तव में राष्ट्र के लिए एक प्रगतिशील कदम है। हमें उम्मीद है कि इस प्रतिबंध के साथ जगह-जगह सार्वजनिक क्षेत्रों में पान मसाला थूकने वालों में कमी आएगी।
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Next Story
Top