Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

प्यू रिसर्च का दावा- दुनिया में सबसे कम पढ़े-लिखे हैं हिंदू

धार्मिक समुदायों में से हिंदुओं की शिक्षा का स्तर सबसे कम है।

प्यू रिसर्च का दावा- दुनिया में सबसे कम पढ़े-लिखे हैं हिंदू
वाशिंगटन. प्यू' की एक रिपोर्ट का दावा है कि दुनिया के बड़े धार्मिक समुदायों में से हिंदुओं की शिक्षा का स्तर सबसे कम है। हाल के दशक में काफी शैक्षणिक उपलब्धियां हासिल करने के बावजूद हिंदू समुदायों के लोगों सबसे कम पढ़े-लिखे हैं।
औपचारिक शिक्षा की कमी-
बता दें कि इस सर्वे में युवा पीढ़ी में हिंदू वयस्क (25 साल या उससे बड़े) लोगों का विश्लेषण किया गया है। सर्वे में हिंदुओं की शैक्षणिक प्राप्ति का स्तर अन्य बड़े धार्मिक समूदायों की तुलना में सबसे कम है। वहीं इस मामले में यहूदी सबसे ऊपर हैं। 41 प्रतिशत हिंदुओं के पास किसी तरह की औपचारिक शिक्षा नहीं है। 10 में एक के पास माध्यमिक स्तर से ऊपर की डिग्री है। सभी पीढ़ियों में हिंदू महिलाओं के अधिक शिक्षित होने के बावजूद हिंदुओं में किसी अन्य धार्मिक समूह की तुलना में अब तक सर्वाधिक शैक्षणिक लैंगिक अंतराल है।
स्कूलिंग में आसपास हिंदू-मुस्लिम समुदाय-
गौरतलब है कि प्यू रिसर्च सेंटर की रिपोर्ट का शीर्षक 'रिलीजन एंड एजुकेशन अराउंड द वर्ल्ड एट लार्ज' है। यह 160 पन्नों की रिपोर्ट है। इसमें कहा गया है कि यहूदी दुनियाभर में किसी अन्य बड़े धार्मिक समूह की तुलना में अत्यधिक शिक्षित हैं। जबकि मुसलमानों और हिंदुओं में औपचारिक स्कूलिंग कुछ ही साल की है। इस सिलसिले में 151 देशों से आंकडे जुटाए गए हैं। रिपोर्ट में कहा गया कि दुनियाभर में मुसलमान महिलाओं में स्कूलिंग का औसत 4.9 साल है, जबकि मुसलमान पुरुषों में यह 6.4 साल है। वहीं, हिंदू महिलाओं में औपचारिक स्कूलिंग खासतौर पर कम है, जिनकी औसत स्कूलिंग 4.2 साल है, जबकि हिंदू पुरुषों की 6.9 साल है। प्यू के मुताबिक, भारत में हिंदुओं की स्कूलिंग का औसत 5.5 साल, जबकि नेपाल और बांग्लादेश में क्रमश: 3.9 और 4.6 साल है। अमेरिका में हिंदुओं की स्कूलिंग का औसत 15.7 साल जबकि यूरोप में 13.9 साल है।
साभार- pewforum.org
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Next Story
Top