Web Analytics Made Easy - StatCounter
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

लोकसभा चुनाव से पहले पेट्रोल-डीजल महंगा, धर्मेंद्र प्रधान ने सऊदी अरब से मांगी मदद

आम चुनाव की घोषणा से ठीक पहले पेट्रोल - डीजल के दामों में फिर से तेजी को देखते हुए पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने दुनिया के सबसे बड़े तेल निर्यातक देश सऊदी अरब से कच्चे तेल की दरों को उचित स्तर पर बनाए रखने के लिए सक्रिय भूमिका निभाने की अपील की है।

लोकसभा चुनाव से पहले पेट्रोल-डीजल महंगा, धर्मेंद्र प्रधान ने सऊदी अरब से मांगी मदद

आम चुनाव की घोषणा से ठीक पहले पेट्रोल - डीजल के दामों में फिर से तेजी को देखते हुए पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने दुनिया के सबसे बड़े तेल निर्यातक देश सऊदी अरब से कच्चे तेल की दरों को उचित स्तर पर बनाए रखने के लिए सक्रिय भूमिका निभाने की अपील की है। पेट्रोल और डीजल के दाम पिछले एक महीने में 2 रुपये प्रति लीटर से ज्यादा बढ़ चुके हैं।

प्रधान ने शनिवार रात भारत की यात्रा पर आए सऊदी अरब के पेट्रोलियम मंत्री खालिद अल - फलीह के सामने ईंधन की बढ़ती कीमतों का मुद्दा उठाया और कीमतों को कम करने में अहम भूमिका निभाने की मांग की है।
हालांकि, इसमें भारत की मांग के संबंध में अल - फलीह ने क्या कहा इसके बारे में नहीं बताया गया है। बयान में कहा गया है कि प्रधान ने वैश्विक स्तर पर कच्चे तेल की कीमतों में जारी तेजी को लेकर चिंता जताई।
चीन-अमेरिका टकराव से बढ़े दाम
पेट्रोल-डीजल के दाम बढ़ने के पीछे मुख्य रुप से अमेरिका और चीन के बीच व्यापार मोर्चे पर टकराव समाप्त होने की उम्मीद के साथ साथ तेल निर्यातक देशों के संगठन ओपेक के सहयोगी रूस द्वारा तेल आपूर्ति में कटौती बढ़ाने की घोषणा शामिल है। चीनी-अमेरिका व्यापार युद्ध से वैश्विक आर्थिक गतिविधियों में गिरावट आयी है।
प्रधान ने अल - फलीह के साथ बैठक के बाद ट्वीट में कहा, मैंने ईंधन की बढ़ रही कीमतों पर अपनी चिंता अल - फलीह के सामने जाहिर की है और कीमतों को उचित स्तर बनाए रखने के लिए उनसे सक्रिय भूमिका निभाने की अपील की है। दोनों मंत्रियों ने हाल में हुई भू - राजनीतिक घटनाक्रमों का वैश्विक तेल बाजार पर पड़ने वाले नकारात्मक असर पर भी चर्चा की है।

पेट्रोलियम उत्पाद की आपूर्ति निर्बाध रखें
रविवार को जारी आधिकारिक बयान में कहा गया कि प्रधान ने कच्चे तेल के प्रमुख उत्पादक और वैश्विक तेल बाजार में संतुलन बनाए रखने में सऊदी अरब की भूमिका का उल्लेख किया। प्रधान ने ओपेक समेत अन्य देशों के उत्पादन में कटौती के निर्णय को देखते हुए भारत को कच्चे तेल और रसोई गैस की निर्बाध आपूर्ति की आवश्यकता पर भी जोर दिया।
पेट्रोलियम भंडार में निवेश के लिए न्योता
भारत ने देश में रणनीतिक तेल भंडारण सुविधा के क्षेत्र में सउदी अरब को निवेश के लिए आमंत्रित किया है। साथ ही सरकार सउदी अरब के साथ मिलकर 44 अरब डॉलर यानी करीब 3.08 लाख करोड़ रुपये की लगात से एक नया तेल शोधन एवं पेट्रोरसायन संयंत्र स्थापित करने की परियोजना को जीवित रखने का प्रयास कर रही।
महाराष्ट्र सरकार जगह नहीं दे पाई
महाराष्ट्र के रत्नागिरि जिले में स्थापित की जाने ली इस परियोजना के लिए वहां की सरकार तय जगह पर जमीन का प्रबंध नहीं कर सकी है। बयान में परियोजना के लिये वैकल्पिक स्थल की कोई जानकारी नहीं दी गयी। महज तीन सप्ताह में दूसरी बार भारत आए सउदी अरब के तेल मंत्री खालिद अल फालीह ने पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान के साथ तेल शोधन एवं पेट्रोरसायन परिसर के बारे में चर्चा की।

इतनी-इतनी रहेगी हिस्सेदारी
इस परियोजना में सउदी अरब की कंपनी अरामको और उसकी भागीदार संयुक्त अरब अमीरात की एडनॉक ने 50 प्रतिशत हिस्सेदारी के लिए करार पर हस्ताक्षर कर रखे हैं। शेष हिस्सेदारी भारत की सार्वजनिक कंपनियों इंडियन ऑयल, भारत पेट्रोलियम और हिंदुस्तान पेट्रोलियम के पास रहेगी।
एक महीने में बढ़ीं इतनी कीमतें
पिछले एक महीने में पेट्रोल और डीजल के दामों में क्रमश: 2.12 रुपये और 2.03 रुपये की तेजी आई है। दिल्ली में रविवार को पेट्रोल 72.40 रुपये प्रति लीटर और डीजल 67.54 रुपये प्रति लीटर पर था।
Next Story
Share it
Top