Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

कश्मीर में जो मारे गए वो दूध टॉफी खरीदने नहीं निकले थे

महबूबा मुफ्ती ने सुरक्षा बलों द्वारा नागरिकों की हत्या को जायज करार देते हुए दिया यह बयान

कश्मीर में जो मारे गए वो दूध टॉफी खरीदने नहीं निकले थे
श्रीनगर. कश्मीर घाटी में पिछले कुछ दिनों से जारी हिंसा के बीच हालात का जायजा लेने यहां पहुंचे गृह मंत्री राजनाथ सिहं ने कहा कि कश्मीर में बहकावे में आए नौजवानों को समझाने की जरूरत है। राजनाथ ने राज्य की मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती के साथ एक संवाददाता सम्मेलन में कहा कि जो नौजवान बहकावे में आकर पत्थर उठाते है उन्हें समझाने की जरूरत है।
जिन नौजवानों के हाथों में कंम्प्यूटर होना चाहिए उनके हाथों में पत्थर देखकर दुख होता है और ऐसे नौजवानों को सही मार्ग पर लाया जाना चाहिए। ताकि उनका भविष्य बेहतर बनाया जा सके। कश्मीर में बच्चों का भविष्य हिन्दुस्तान से जुड़ा है। उन्होंने कहा कि सरकार इंसानियत, जम्हूरियत और कश्मीरियत को मानने वालों से चर्चा को हर समय तैयार है।
उन्होंने कहा कि सभी पक्षों से सकारात्मक बातचीत हुई है और सभी दलों से भी बेहतर चर्चा हुई। उन्होंने कहा कि कश्मीर में हिंसा पर पूरा देश दुखी है और कश्मीर में हालात पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की नजर है। मोदी ने कश्मीर के हालात पर पीड़ा व्यक्त की है।
आर्मी के समर्थन में महबूबा
जम्मू एवं कश्मीर की मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने गुरुवार को सुरक्षा बलों द्वारा नागरिकों की हत्या को जायज करार देते हुए कहा कि जिन्हें गोली या पैलेट लगी, वे दूध या टॉफी खरीदने बाहर नहीं निकले थे। एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए महबूबा ने कहा कि पथराव करने और सुरक्षा बलों के कैंप पर हमला करने से समस्या का समाधान नहीं होगा। महबूबा मुफ्ती ने कहा कि 95 फीसदी कश्मीरी शांति चाहते हैं और पांच फीसदी हिंसा।
उन्होंने कहा कि 8 जुलाई को हिजबुल मुजाहिदीन के कमांडर बुरहान वानी की हत्या के बाद लोग सड़कों पर बाहर क्यों निकले, जबकि सरकार ने कफ्यरू लागू कर रखा था। उन्होंने कहा, क्या कोई बच्चा आर्मी कैंप से टॉफी खरीदने गया था? एक 15 साल का लड़का जिसने पुलिस थाने पर हमला किया (दक्षिण कश्मीर में), क्या वह दूघ खरीदने गया था? दोनों की तुलना ना करें।
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलोकरें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Next Story
Hari bhoomi
Share it
Top