Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

अब लोग भारतीय सेना को दान कर सकेंगे अपनी संपत्ति

रक्षा मंत्रालय ने बनाया जवानों को देने वाली फंड संस्था

अब लोग भारतीय सेना को दान कर सकेंगे अपनी संपत्ति
नई दिल्ली. यूं तो हर देशवासी के मन में सेना के जवानों के प्रति आदर व सम्मान का भाव देखने को मिलता है। लेकिन इस देश में ऐसा भी कोई है जो न सिर्फ इन रणबांकुरों के देशप्रेम के जज्बे को सलाम करता है। बल्कि उनकी शहादत के बाद उनके बेसहारा परिवार के सदस्यों के नाम अपनी पूरी वसीयत दान करने का फौलादी इरादा कर चुका है। जी हां यहां हम बात पुणे के रहने वाले 70 साल के प्रकाश केलकर की कर रहे हैं। जिन्होंने मृत्यु के बाद अपनी पूरी वसीयत उन जवानों के परिवार के सदस्यों के नाम कर दी है, जिन्होंने मातृभूमि की सेवा में अपना सर्वस्व न्यौच्छावर कर दिया और अमर शहीद हो गए। केलकर की अपनी कोई संतान नहीं है। उनके परिवार में वो और उनकी पत्नी हैं। लेकिन उनकी इच्छा है कि वो सेना व देश की भलाई के लिए कुछ करें। स्वर्णाक्षरों में याद की जाएगी जवानों की कुर्बानी...
मंत्रालय ने बनाया फंड
रक्षा मंत्रालय के उच्चपदस्थ सूत्रों ने हरिभूमि को बताया कि बीते काफी समय से रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर को आमजन की तरफ से एक ऐसा फंड बनाने को लेकर लिखित में प्रस्तुतियां भेजी जा रही थीं। इसे उन्होंने स्वीकार किया और सेना को तुरंत इस बारे में एक पत्र भेजकर कार्रवाई करने को कहा। सेना ने इसपर अमल करते हुए ‘आर्मी वेलफेयर फंड बेटल केजुअलटीज’ के नाम से एक फंड बनाया है, जिसमें कोई भी व्यक्ति स्वैच्छिक आधार पर एक रूपए से लेकर जितना चाहे उतना पैसा दान कर सकता है। गौरतलब है कि बेटल केजुअलटी को सेना जवान की मौत के रूप में परिभाषित करती है।
केलकर का प्रस्ताव मंजूर
केलकर ने इस फंड के बारे में जानकारी मिलने के बाद बीते एक अगस्त को रक्षा मंत्री के कार्यालय को इस संबंध में एक ईमेल भेजकर अपनी मृत्यु के बाद अपनी वसीयत का पूरा पैसा जवानों के परिवारों के नाम करने की इच्छा जताई। इसे मंत्रालय ने स्वीकार कर लिया है। उनकी वसीयत में कुल कितनी धनराशि है इसके बारे में तो मंत्रालय ने स्पष्ट रूप से कुछ नहीं बताया। लेकिन इतना जरूर कहा है कि पैसा लाख में है।
अब तक फंड में आए 25 लाख
27 जून को गठित हुए इस फंड को लेकर लोगों में काफी उत्साह देखने को मिल रहा है। अब तक इसमें कुल 25 लाख रूपए जमा हुए हैं। मंत्रालय का कहना है कि इस फंड का इस्तेमाल केवल सीमा पर शहीद होने वाले जवानों के परिवारों की मदद के लिए ही नहीं किया जाएगा। बल्कि उसमें उन जवानों के परिवार के लोगों को भी मदद मिलेगी जिनकी देखरेख करने वाला कोई नहीं होगा। उदाहरण के तौर पर अगर किसी जवान की मृत्यु के बाद उसकी पत्नी दूसरा विवाह कर लेती है और जवान के माता-पिता बेसहारा रह जाते हैं। तो उस जवान के अभिभावकों को भी इसी फंड से मदद दी जाएगी। मंत्रालय आने वाले दिनों में इस फंड को इनकम टैक्स कांट्रीब्यूशन में भी शामिल करने की योजना बना रहा है।
ऐसे करें दान...
फंड का नाम-आर्मी वेलफेयर फंड बेटल केजुअलटीज
बैंक का नाम- सिंडिकेट बैंक
ब्रांच-साउथ-ब्लॉक, डिफेंस हेडक्वाटर्स
ब्रांच कोड- 9055
आईएफएससी कोड- synb0009055
अकाउंट नंबर- 90552010165915
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Next Story
Top