Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

पुलवामा आतंकी हमला : नम आंखों के साथ इन शायरी से दें शहीदों को श्रद्धांजलि

Patriotic Shayari For Martyrs In Hindi : जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में हुए आतंकी हमले में लगभग 44 सीआरपीएफ के जवान शहीद हो गए। देश के लिए अपनी जान को न्योछावर करने वाले जांबाज शहीदों को पूरे देश ने नम आंखों से श्रद्धांजलि दी है।

पुलवामा आतंकी हमला : नम आंखों के साथ इन शायरी से दें शहीदों को श्रद्धांजलि

Patriotic Shayari For Martyrs In Hindi : जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में हुए आतंकी हमले में लगभग 44 सीआरपीएफ के जवान शहीद हो गए। देश के लिए अपनी जान को न्योछावर करने वाले जांबाज शहीदों को पूरे देश ने नम आंखों से श्रद्धांजलि दी है। इस मौके पर हम आपको कुछ शायरी बता रहे हैं जिनसे आप शहीद जवानों को भावभीनी श्रद्धांजलि दे सकते हैं।

Patriotic Shayari / शहीदों पर शायरी

उड़ जाती है नींद ये सोचकर

कि सरहद पे दी गयीं वो कुर्बानियां

मेरी नींद के लिए थीं..

Patriotic Shayari / शहीदों पर शायरी

देश के जवान भिगोकर लहू में वर्दी कहानी दे गए अपनी,

मोहब्बत मुल्क की सच्ची निशानी दे गए अपनी,

मनाते रह गए वेलेंटाइन-डे यहां हम तुम,

वहां कश्मीर में सैनिक जवानी दे गए अपनी..

Patriotic Shayari / शहीदों पर शायरी

चूमा था वीरों ने फांसी का फंदा

यूं ही नहीं मिली थी आजादी खैरात में..

Patriotic Shayari / शहीदों पर शायरी

खून से खेलेंगे होली,

अगर वतन मुश्किल में है

सरफ़रोशी की तमन्ना

अब हमारे दिल में है..

Patriotic Shayari / शहीदों पर शायरी

अब नहीं लौट के आने वाला

घर खुला छोड़ के जाने वाला..

अख़्तर नज़्मी

Patriotic Shayari / शहीदों पर शायरी

जो देश के लिए शहीद हुए

उनको मेरा सलाम है,

अपने खूं से जिस जमीं को सींचा

उन बहादुरों को सलाम है..

Patriotic Shayari / शहीदों पर शायरी

घरबार छोड़ सीमाओं पर बैठे हैं आंखे लगायें,

उसे मिटा दें जो भी दुश्मन सीमायें लांघ के आयें..

Patriotic Shayari / शहीदों पर शायरी

क्या मोल लग रहा है शहीदों के ख़ून का,

मरते थे जिन पे हम वो सज़ा-याब क्या हुए..

साहिर लुधियानवी

Patriotic Shayari / शहीदों पर शायरी

फ़ौजी की मौत पर परिवार को दुःख कम और गर्व ज्यादा होता हैं,

ऐसे सपूतों को जन्म देकर माँ का कोख भी धन्य हो जाता हैं..

Patriotic Shayari / शहीदों पर शायरी

कतरा - कतरा भी दिया वतन के वास्ते,

एक बूंद तक ना बचाई इस तन के वास्ते,

यूं तो मरते है लाखो लोग हर रोज,

पर मरना तो वो है जो जान जाये वतन के वास्ते..

Loading...
Share it
Top