Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

पटना यूनिवर्सिटी के गौरवशाली इतिहास से जुड़े ये हैं 8 अनसुने किस्से

पटना यूनिवर्सिटी ने आज अपनी स्थापना के 100 साल पूरे कर लिए हैं।

पटना यूनिवर्सिटी के गौरवशाली इतिहास से जुड़े ये हैं 8 अनसुने किस्से

पटना यूनिवर्सिटी ने आज अपनी स्थापना के 100 साल पूरे कर लिए हैं। इस मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ऐतिहासिक पटना यूनिवर्सिटी के लिए बड़ा ऐलान करते हुए इसकी खूब तारीफ भी की है। एक नजर पटना यूनिवर्सिटी के इतिहास से जुड़े 10 अनसुनी बातों पर:-

1. पटना यूनिवर्सिटी ने अपने 100 के इतिहास में शिक्षा में ही नहीं, सामाजिक कार्यों में भी बड़ा योगदान दिया है। यह यूनिवर्सिटी देश की 7वीं सबसे पुरानी यूनिवर्सिटी है।

2. 1917 में स्थापित की गई पटना यूनिवर्सिटी ने अपने स्वर्णिम इतिहास में बहुत से उतार-चढ़ाव देखें हैं। इसकी स्थापना पटना विश्वविद्यालय एक्ट 1917 के तहत की गई थी। खास बात यह है कि इसका कार्यक्षेत्र नेपाल और उड़ीसा तक फैला हुआ था।

यह भी पढ़ें:- पीएम मोदी ने पटना यूनिवर्सिटी को दी बड़ी सौगात, जमकर की तारीफ

3. पटना यूनिवर्सिटी की स्थापना के बाद इससे 3 कॉलेज, 5 एडेड कॉलेज और वोकेशनल कॉलेजों को भी जोड़ा गया। इस समय पटना विश्वविद्यालय में कॉमर्स यूनिवर्सिटी, बी. एन. कॉलेज, साइंस कॉलेज, पटना कॉलेज, पटना कला और शिल्प महाविद्यालय, मगध महिला कॉलेज और लॉ कालेज शामिल हैं।

4. अपनी स्थापना के पहले 25 वर्षों में पटना विश्वविद्यालय ने बेहतरीन शिक्षा देकर खूब नाम कमाया। इसे 'ऑक्सफोर्ड ऑफ द ईस्ट' भी कहा जाने लगा।

यह भी पढ़ें:- मिल गई केजरीवाल की चोरी हुई कार, जानिए कार बरामद होने की पूरी स्टोरी

5. बिहार के सर्वाधिक प्रतिष्ठित विश्वविद्यालय के रूप में मशहूर पटना विश्वविद्यालय का मुख्य भवन का निर्माण दरभंगा के राजा ने करवाया था। इसे दरभंगा हाउस के नाम से भी जाना जाता है।

6. पटना विश्वविद्यालय के पहले कुलपति होने का गौरव जॉर्ज जे. जिनिंग्स ने पाया। उनका यह पद अवैतनिक था। इसकी वजह थी कि जिनिंग्स उन दिनों बिहार, बंगाल और उड़ीसा के प्रशासनिक अधिकारी भी थे।

यह भी पढ़ें:- गुरमेहर कौर बनीं टाइम मैगजीन की नेक्स्ट जेनरेशन लीडर, पढ़ें- प्रोफाइल

7. पटना विश्वविद्यालय में कुलपतियों को वेतन मिलने का सिलसिला विश्वविद्यालय एक्ट, 1951 के लागू होने के बाद शुरू हुआ। पहले वैतनिक कुलपति के. एन. बहल थे। अपने 100 साल के इतिहास में पटना विश्वविद्यालय 51 कुलपति दे चुका है।

8 इस विश्वविद्यालय के पूर्व छात्रों में लोकनायक जयप्रकाश नारायण, यशवंत सिन्हा, नीतीश कुमार, शत्रुघ्न सिन्हा, जेपी नड्डा, लालू प्रसाद यादव, रवि शंकर प्रसाद, सुशील कुमार मोदी, समेत बहुत सी बड़ी हस्तियां रह चुकी हैं। यशवंत सिन्हा तो पटना कॉलेज के प्राध्यापक भी रह चुके हैं।

Next Story
Share it
Top