Web Analytics Made Easy - StatCounter
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

संसद का शीतकालीन सत्र / राफेल सहित विभिन्न मुद्दों पर राज्यसभा में भारी हंगामा, बैठक सोमवार तक स्थागित

संसद का शीतकालीन सत्र शुरू होने का आज चौथा दिन है। शीतकालीन सत्र की कार्यवाही दौरान राफेल डील के मुद्दे को लकेर संसद में हंगामा शुरू हो गया।

संसद का शीतकालीन सत्र / राफेल सहित विभिन्न मुद्दों पर राज्यसभा में भारी हंगामा, बैठक सोमवार तक स्थागित

राफेल विमान सौदा, कावेरी नदी पर बांध सहित विभिन्न मुद्दों पर राज्यसभा में शुक्रवार को सत्तापक्ष एवं विपक्ष के सदस्यों के भारी हंगामे के कारण सदन की कार्यवाही लगातार बाधित हुई। हंगामे के कारण उच्च सदन की बैठक सोमवार के लिए स्थगित कर दी गई है।

राफेल विमान सौदे में उच्चतम न्यायालय के फैसले के बाद सत्तारूढ़ भाजपा और कांग्रेस दोनों ने उच्च सदन में एक दूसरे पर निशाना साधा। हंगामे के बीच ही सदन के नेता एवं वित्त मंत्री अरूण जेटली ने कहा कि विपक्षी पार्टी राफेल सौदे पर चर्चा की मांग कर रही है।

उन्होंने कहा कि प्रश्नकाल स्थगित कर इस मुद्दे पर तत्काल चर्चा शुरू की जाए। कांग्रेस के सदस्य आसन के समीप आकर राफेल मुद्दे की जांच के लिए संयुक्त संसदीय समिति (जेपीसी) गठित करने की मांग कर रहे थे।

वहीं भाजपा के सदस्य अपने स्थानों से आगे आकर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी से माफी मांगने की मांग कर रहे थे। उच्च सदन की बैठक शुरू होते ही सदन में हंगामा शुरू हो गया और सपा सदस्यों ने बुलंदशहर से जुड़ा मुद्दा उठाने का प्रयास किया।

इसी दौरान अन्नाद्रमुक के सदस्य कावेरी नदी पर बांध का मुद्दा उठाते हुए आसन के समक्ष आ गए। माकपा सहित कई अन्य दलों के सदस्य भी अपने स्थानों से आकर अलग अलग मुद्दे उठा रहे थे।

उपसभापति हरिवंश ने हंगामा कर रहे सदस्यों से अपने स्थानों पर जाने की बार-बार अपील की और हंगामा थमते नहीं देख उन्होंने करीब 11: 10 बजे बैठक 11:30 बजे तक के लिए स्थगित कर दी।

एक बार के स्थगन के बाद बैठक शुरू होने पर भी सदन में हंगामा जारी रहा और उपसभापति ने शून्यकाल चलाने का प्रयास किया। शोर-शराबे के बीच ही जदयू के रामनाथ ठाकुर, राकांपा की वंदना चव्हाण, तृणमूल कांग्रेस के नदीमुल हक आदि ने अपने अपने मुद्दे उठाए।

हालांकि हंगामे के कारण उनकी बात ठीक से सुनी नहीं जा सकी। उपसभापति ने एक बार फिर सदस्यों से शांत होने की अपील की। लेकिन उनकी अपील का कोई असर नहीं हुआ और उन्होंने करीब 11:40 बजे बैठक पूरे दिन के लिए स्थगित कर दी।

उल्लेखनीय है कि मंगलवार से शुरू हुए शीतकालीन सत्र में विभिन्न मुद्दों पर अलग अलग दलों के सदस्यों के हंगामे के चलते उच्च सदन में लगातार अवरोध बना हुआ है।

Next Story
Share it
Top