Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

संसद शीतकालीन सत्र / लोकसभा में तीन तलाक बिल पेश, पक्ष और विपक्ष के बीच बहस जारी

संसद का शीतकालीन सत्र चल रहा है। आज मोदी सरकार का सबसे अहम बिल तीन तलाक लोकसभा में पेश हो गया है। तीन तलाक बिल को लेकर चर्चा हो रही है। कांग्रेस और भाजपा ने सांसदों को व्हिप जारी कर सदन में मौजूद रहने को कहा था।

संसद शीतकालीन सत्र / लोकसभा में तीन तलाक बिल पेश, पक्ष और विपक्ष के बीच बहस जारी
संसद (Parliament) का शीतकालीन सत्र चल रहा है। आज मोदी सरकार का सबसे अहम बिल तीन तलाक (Triple Talaq) लोकसभा में पेश हो गया है। तीन तलाक बिल को लेकर चर्चा हो रही है। कांग्रेस और भाजपा (Congress Bjp) ने सांसदों को व्हिप जारी कर सदन में मौजूद रहने को कहा था।
मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, लोकसभा में चर्चा के बाद आज तीन तलाक कानून बन सकता है। विपक्षी पार्टियों के विरोध के चलते काफी समय से संसद से यह बिल पास नहीं हो रहा है। मोदी सरकार ने तीन तलाक को अपराध करार देने के लिए सितंबर में बिल पारित कर चुकी है।
जानकारी के लिए बता दें कि यह बिल राज्यसभा में हर बार पास नहीं हो सका। इससे पहले तीन तलाक बिल लोकसभा में पारित हो गया था, लेकिन राज्यसभा में यह पारित नहीं हो सका था।

तीन तलाक क्या है

तीन तलाक को लेकर देशभर में घमासान मचा हुआ है। हर कोई जानना चाहता है कि तीन तलाक क्या है। इस्लाम धर्म में तलाक देने का एक तरीका है। एक बार में पति एक ही तलाक दे सकता है। अगर कोई एक बार में एक से ज्यादा बार भी तलाक बोल दे तो उससे तलाक नहीं मना जाता है। मुस्लिम धर्म में कहा गया है कि तलाक एक-एक करके ही दिया जा सकता है। एक बार में तीन तलाक बोलने से तलाक नहीं होता है। इसके लिए एक प्रक्रिया होती है। कुछ समय का अंतर होगा और इस प्रक्रिया को अपनाकर ही इस्लाम के मुतालक शौहर और बेगम के बीच का नाता तलाक से टूट जाएगा।

तीन तलाक पर सुप्रीम कोर्ट

तीन तलाक को लेकर पीड़िता महिलाओं ने सुप्रीम अर्जी दी थी। जिसकी एक लंबी लड़ाई चली थी। कोर्ट तीन तलाक को गैरकानूनी करार देकर मुस्लिम महिलाओं की मर्यादा की रक्षा की थी। कोर्ट ने सरकार से इस कानून बनाने के लिए आदेश दिया था। एक बार में तीन तलाक कहना क्रिमिनल अपराध होगा और दोषी पाए गए अपराधी को तीन साल की सजा होगी। इसको लेकर प्रवधान भी बनाया गया है।
Share it
Top