Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

संसद की कैटीन में प्राइवेट कंपनियां करेंगी खाने की सप्लाई, रेट सुनकर अधिकारी हैरत में

संसद की कैंटीन में खाने की सप्‍लाई के लिए आईटीसी, एमटीआर और हल्‍दीराम जैसी कंपनियों को न्‍यौता दिया गया है।

संसद की कैटीन में प्राइवेट कंपनियां करेंगी खाने की सप्लाई, रेट सुनकर अधिकारी हैरत में
नई दिल्ली. हाल ही में संसद की कैंटीन में खराब खाना खाने से राज्‍यसभा सांसद जया बच्‍चन बीमार पड़ गईं थी और कैंटीन में फूड सप्‍लाई के लिए जिम्‍मेदार नॉर्दर्न रेलवे कैटरिंग पर जमकर गुस्‍सा उतारा था। अब नॉर्दर्न रेलवे कैटरिंग का काम आउटसोर्स करने पर विचार कर रहा है। इस क्रम में संसद की कैंटीन में खाने की सप्‍लाई के लिए आईटीसी, एमटीआर और हल्‍दीराम जैसी कंपनियों को न्‍यौता दिया गया है। इस सिलसिले में खाने की कीमत, मेन्यू और अन्य मुद्दों पर रेलवे के वरिष्ठ अधिकारियों ने लोकसभा के सेक्रेटरी जनरल से मुलाकात की। अपना नाम ना प्रकाशित करने की शर्त पर रेलवे के एक आला अधिकारी ने बताया कि निजी कंपनियों के रेट सुनते ही संसद के अधिकारियों के होश उड़ गये।
आपको बताते चलें कि संसद की कैंटीन में सांसदों को 3 रुपये प्‍लेट दाल मिलती है जबकि हल्‍दीराम ने दाल के लिए 50 रुपये, एमटीआर ने 60 रुपये और आईटीसी ने 75 रुपये प्रति प्‍लेट बताया है। वहीं मटर पनीर के लिए हल्‍दीराम ने 60 रुपये, एमटीआर ने 75 रुपये और आईटीसी ने 80 रुपये मांगे हैं।
कंपनियों का कहना है वे इस से कम में कीमत पर सप्‍लाई नहीं कर सकतीं लिहाजा यह बैठक बेनतीजा निकला। रेलवे अधिकारी ने बताया कि संसद के अधिकारी सांसदों के लिए रेट बढ़ाने की स्थिति में नहीं हैं। लोकसभा सचिवालय के एक अधिकारी ने बताया कि पिछली बार वर्ष 2010 में कैंटीन के रेट बढ़े थे, तब भी कुछ सांसदों ने विरोध किया था। जिसके मद्देनजर इस बार भी कीमते बढ़ना मुश्किल ही नजर आ रहा है।
नीचे की स्लाइड्स में पढ़िए, संसद कैंटीन के मेन्यू और रेट -

खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि और हमें फॉलो करें ट्विटर पर-
Next Story
Top