Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

HDFC प्रमुख का दावा-मोदी सरकार में कारोबारियों को नहीं हुआ जमीनी फायदा

पारेख ने कहा मेक इन इंडिया का सपना तब तक सफल नहीं हो सकता जब तक लोगों के कारोबार करने के लिए प्रशासनिक बंदिशे कम नहीं हो जाती और त्वरित फैसले नहीं किए जाते।

HDFC प्रमुख का दावा-मोदी सरकार में कारोबारियों को नहीं हुआ जमीनी फायदा

मुंबई.भारत में बैंकिंग क्षेत्र की शख्सियत और एचडीएफसी प्रमुख दीपक पारेख ने कहा है कि मोदी सरकार के शुरूआती नौ महीनों के कार्यकाल में जमीनी स्तर पर किसी भी प्रकार का बदलाव नहीं आया है। पारेख ने कहा प्रशासनिक बंदिशों में ढील देने की भी वकालत करते हुए कहा, 'उद्यमियों में अधीरता पैदा होने लगी है।

SC ने सहारा से पूछे सवाल, 10 हजार करोड़ नहीं दे सकते तो कहां से दोगे 30 हजार करोड़

पारेख ने आगे कहा उद्योग जगत नरेंद्र मोदी की केंद्र सरकार से अपेक्षित बदलावों को लेकर वह अब भी आशावान हैं लेकिन यह आशावादिता आय में नहीं बदल रही है और कारोबार को आसान बनाने के मामले में अभी बहुत कम ही सुधार देखने को मिला है।
पारेख ने कहा मेक इन इंडिया का सपना तब तक सफल नहीं हो सकता जब तक लोगों के कारोबार करने के लिए प्रशासनिक बंदिशे कम नहीं हो जाती और त्वरित फैसले नहीं किए जाते। आपको बता दें कि दीपक पारेख को भारतीय उद्योग जगत की खास शख्सियतों में से एक माना जाता है। और हाल में अनेक प्रमुख सरकारी समितियों के सदस्य भी हैं।
एक इंटरव्यू के दौरान पारेख ने कहा, 'मेरी राय में देश के लोगों, उद्योगतिपयों व उद्यमियों को अब भी बहुत उम्मीद है कि मोदी सरकार कारोबार के लिए, उन्नति के लिए व भ्रष्टाचार कम करने के लिए अच्छी होगी। उन्हें लगता है कि यह सरकार इन सभी मोर्चों पर काम करेगी।’
उन्होने अपेक्षित कारोबार में बदलाव पर चिंता व्यक्त करते हुए कहा,'नौ महीने के बाद थोड़ी बहुत अधीरता सामने आने लगी है कि कोई बदलाव क्यों नहीं हो रहा और जमीनी स्तर पर असर दिखने में इतना समय क्यों लग रहा है।’
आपको बता दें दीपक पारेख पिछले तीन दशकों से अनेक सरकारों के दौरान भी नीतिगत व सुधारात्मक कदमों को लेकर काफी मुखर रहे हैं। और नीतिगत मोर्चे पर ढिलाई को लेकर गत संप्रग सरकार की आलोचना करने वाले पहले उद्योगपतियों में से एक रहे हैं। उन्होंने आगे कहा, ‘उम्मीद तो बरकार है लेकिन इसकी झलक कमाई में नहीं दिख रही. आप किसी भी उद्योग को लें, जब वहां बहुत आशावाद होता है तो वृद्धि तेज होनी चाहिए।’

नीचे की स्लाइड्स में पढ़िए, पूरी खबर -

खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Next Story
Top