Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

पैराडाइज मामला: आरके सिन्हा का मौनव्रत टूटा, उप राष्ट्रपति से की अखबार के खिलाफ एक्शन की मांग

जयंत सिन्हा ने अखबार में विज्ञापन निकाल कर अपनी सफाई पेश की है।

पैराडाइज मामला: आरके सिन्हा का मौनव्रत टूटा, उप राष्ट्रपति से की अखबार के खिलाफ एक्शन की मांग

पनामा पेपर्स के बाद हाल में सामने आए पैराडाइज पेपर लीक के मामले ने दुनिया को हिला कर रख दिया है। पिछले साल 8 नंवबर को की गई नोटबंदी के फैसले को आज एक साल हो गया है। ऐसे में भ्रष्टाचार के मामले में सामने आई पैराडाइज पेपर्स के खुलासे की बात और परेशां करती है।

इस खुलासे में कई भारतीयों के भी नाम आए थे। मोदी सरकार में मंत्री जयंत सिन्हा और बीजेपी के राज्यसभा सांसद आरके सिन्हा का भी नाम इन खुलासों में आया था।

जयंत सिन्हा ने तो मामले में सफाई दे दी थी, लेकिन आरके सिन्हा ने मामले पर चुप्पी साधते हुए मौन व्रत धारण कर लिया था। जयंत सिन्हा की ये तस्वीर काफी वायरल भी हुई है।

यह भी पढ़ें- नोटबंदी सालगिरह: पीएम मोदी कर सकते हैं बेनामी संपत्ति पर बड़ा खुलासा

बुधवार को जयंत सिन्हा ने अखबार में विज्ञापन निकाल कर अपनी सफाई पेश की है। आरके सिन्हा ने विज्ञापन के जरिए उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू से अपील की है कि अखबार की रिपोर्ट से उनके विशेषाधिकार का हनन हुआ है और उनके सम्मान को ठेस पहुंची है। इसीलिए अखबार के खिलाफ कड़ा एक्शन लिया जाए।

यह भी पढ़ें- एयरटेल का यह प्लान ग्राहकों का डेटा कभी खत्म नहीं होने देगा

इसके अलावा सिन्हा ने दावा किया है कि पैराडाइज पेपर्स खुलासे में जो भी उनपर आरोप लगे हैं वो सभी निराधार हैं। विदेश में स्थित उनकी कंपनी SIS (सिक्योरिटी एंड इंटेलिजेंस सर्विसेज) ने कोई भी गलत काम नहीं किया है। उन्होंने कहा कि उनकी कंपनी ने टैक्स चोरी, मनी लॉन्ड्रिंग और विदेशों में पैसा पार्क करने के किसी भी कृत में लिप्त नहीं है।

Next Story
Share it
Top