Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

पाक को बेनकाब करे अंतर्राष्ट्रीय समुदायः सुमित्रा महाजन

अपनी समस्याओं से खुद निपटे पाक

पाक को बेनकाब करे अंतर्राष्ट्रीय समुदायः सुमित्रा महाजन
नई दिल्ली. भारत आतंकवाद के मामले पर पाकिस्तान को चौतरफा घेरने के लिए कोई कसर नहीं छोड़ रहा है। इसके लिए लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन ने भी जिनेवा में आयोजित अंतर-संसदीय संघ सभा में अंतर्राष्ट्रीय समुदाय से एकजुट होकर आतंकवाद के विरुद्ध एक स्पष्ट नीति और प्रभावी रणनीति तैयार करके आतंकवादियों को पनाह देने वाले पाक जैसे देशों को बेनकाब करके उनके खिलाफ कार्यवाही करने का आह्वान किया।
लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन ने जिनेवा में चल रही 135वें अंतर संसदीय संघ सभा में भारतीय संसदीय शिष्टमंडल की ओर से आतंकवाद के खिलाफ यह आह्वान किया। भारतीय संसदीय दल का नेतृत्व कर रही सुमित्रा महाजन ने इस बात पर जोर दिया कि वैश्विकरण के युग में किसी एक देश की सफलता अथवा विफलता का प्रभाव दूसरे देशों पर भी पड़ता है और ऐसे में सभी देशों को मानवाधिकारों का संरक्षण और संवर्धन करने और मानवाधिकारों के उल्लंघन को रोकने के लिए प्रयास करने चाहिए।
उन्होंने इस बात पर भी जोर दिया कि मानवाधिकारों के बहाने किसी संप्रभु राज्य के अंदरूनी मामलों में बाहरी दखलन्दाजी नहीं होनी चाहिए। इससे पहले सम्मेलन में सुमित्रा महाजन के नेतृत्व में भारतीय संसदीय शिष्टमंडल ने पाकिस्तान द्वारा दिए गए वक्तव्य पर उत्तर देने के अधिकार का प्रयोग करते हुए पाकिस्तान द्वारा भारत के जम्मू और कश्मीर राज्य से संबंधित अंदरूनी मामलों के बारे में पक्षपातपूर्ण टिप्पणियां किए जाने के लिए अंतर संसदीय संघ के महत्वपूर्ण मंच का दुरुपयोग किए जाने की आलोचना की।
पकिस्तान को यह स्पष्ट कर दिया गया कि सम्पूर्ण जम्मू और कश्मीर राज्य भारत का अभिन्न भाग है और हमेशा रहेगा। सभा में भारत की ओर से कहा गया कि कश्मीर में मौजूद स्थिति का मूल कारण पाकिस्तान द्वारा प्रायोजित सीमापार आतंकवाद है। श्रीमती महाजन के नेतृत्व वाले भारतीय संसदीय शिष्टमंडल ने इस बात पर भी जोर दिया कि आतंकवाद मानवाधिकारों का घोर उल्लंघन है और पकिस्तान वैश्विक आतंकवाद का गढ़ है, बल्कि यह वैश्विक आतंकवाद का जनक है।
इस मौके पर यह भी कहा गया कि पूरे पाकिस्तान में हो रहे मानवाधिकार उल्लंघन की ओर विश्व को ध्यान देना चाहिए।पाकिस्तान, पाक अधिकृत कश्मीर, बलूचिस्तान और खैबर पख्तून्ख्वा के लोग पकिस्तान की सत्तावादी और भेदभावपूर्ण नीतियों के कारण साम्प्रदायिक संघर्ष, आतंकवाद और घोर आर्थिक गरीबी का शिकार बन रहे हैं जो उनके मानवाधिकारों का उल्लंघन है।
अपनी समस्याओं से खुद निपटे पाक
इस मौके पर पाकिस्तान को वैश्विक आतंकवाद का केंद्र करार देते हुए भारतीय सांसद आरके सिंह ने पाकिस्तान को रिवाज के अनुसार दूसरे जगहों पर मानवाधिकारों के उल्लंघन का मुद्दा उठाने के बजाय अपनी समस्याओं का समाधान करने और आतंकवादी समूहों के खिलाफ कार्रवाई करने की नसीहत दी। लोकसभा सदस्य आरके सिंह ने कहा कि पाकिस्तान के भारत के जम्मू कश्मीर राज्य से संबंधित आंतरिक मामलों के बारे में प्रवृत्तिगत उल्लेख करके इस महत्वपूर्ण निकाय का दुरपयोग करने पर हम गंभीर खेद प्रकट करते हैं।
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Next Story
Top