Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

LOC को दहकाने की तैयारी में पाक, सेना के लिए बड़े खतरे की आहट

जम्मू-कश्मीर के अंदर और एलओसी पर आने वाले समय में हालात काफी चिंताजनक हो सकते हैं जिसमें घाटी के अंदर मौजूद कट्टरपंथी सोच रखने वाले आक्रामक तत्वों, आतंकियों द्वारा सैन्य-सुरक्षा प्रतिष्ठानों को निशाना बनाया जाएगा।

LOC को दहकाने की तैयारी में पाक, सेना के लिए बड़े खतरे की आहट

जम्मू-कश्मीर के अंदर और एलओसी पर आने वाले समय में हालात काफी चिंताजनक हो सकते हैं। जिसमें घाटी के अंदर मौजूद कट्टरपंथी सोच रखने वाले आक्रामक तत्वों, आतंकियों द्वारा सैन्य-सुरक्षा प्रतिष्ठानों को निशाना बनाया जाएगा व दूसरी ओर इन्हें समर्थन देने के लिए एलओसी पार से पाकिस्तान आतंकियों की घुसपैठ में इजाफा करने के लिए संघर्षविराम उल्लंघन का सहारा लेगा। गुरदासपुर और पठानकोट जैसे हमलों की पुनरावृति की भी पूरी आशंका है।

सेना के सूत्रों के मुताबिक सुरक्षा एजेंसियों के ताजा इनपुट के हिसाब से हालात चिंताजनक हैं। लेकिन सेना विपरीत परिस्थितियों में भी दुश्मन को चारों खाने चित करने का दमखम रखती है।

उधर रक्षा क्षेत्र के जानकार कहते हैं कि पाक की यह रणनीति सूबे में बीते दिनों शुरु हुई लोकतांत्रिक प्रक्रिया में बाधा डालने को लेकर रची जा रही है। क्योंकि इसी से उसे अंतरराष्ट्रीय समुदाय से सहानुभूति, समर्थन मिलता है।

बढ़ा संघर्षविराम उल्लंघन
आंकड़ों के हिसाब से मौजूदा साल 2018 के खत्म होते-होते पाकिस्तानी सेना की ओर से एलओसी पर कुल करीब 1900 बार 2003 के संघर्षविराम समझौते का उल्लंघन कर भारतीय सेना की चौकियों पर गोलीबारी की गई है। इसमें कुल 50 बेकसूर भारतीय नागरिक मारे जा चुके हैं। घाटी के अंदर चल रहे आतंकी समूहों में 170 स्थानीय आतंकियों की भर्ती की गई है। सेना ने करीब 250 आतंकियों को अब तक मार गिराया है। यह संख्या बीते दस वर्षों की तुलना में सवार्धिक है।
वोट पड़ने से बढ़ेगी पाक की चिंता
सेना के वरिष्ठ सेवानिवृत अधिकारी लेफ्टिनेंट जनरल विनोद भाटिया ने कहा कि पाक का यह प्लान आगामी लोकसभा चुनाव को देखते हुए बनाया गया है। क्योंकि वो नहीं चाहता कि किसी भी सूरत में जम्मू-कश्मीर के लोग चुनाव में भाग लें। क्योंकि अगर चुनावों में अच्छा मतदान होगा तो अंतरराष्ट्रीय समुदाय के आगे उसकी पोल खुल जाएगी और वो मानेंगे कि कश्मीर में कोई दिक्कत नहीं है, लोग चुनाव में वोट डाल रहे हैं, वहां लोकतंत्र को पसंद किया जा रहा है।
इसे मत को तोड़ने के लिए पाक चाहेगा कि कश्मीर में गड़बड़ी हो, हालात खराब हो और तनाव बढ़े। पंजाब सीमा से आतंकी घुसपैठ होने की भी पुख्ता संभावना नजर आ रही है।
Share it
Top