Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

जेल में जन्मी पाक बच्ची मां और मौसी के साथ वतन रवाना, पीएम मोदी के लिए कही ये बात

अमृतसर जेल में बंद पाकिस्तानी नागरिक फातिमा उसकी बहन व बेटी को जेल से रिहा कर दिया गया।

जेल में जन्मी पाक बच्ची मां और मौसी के साथ वतन रवाना, पीएम मोदी के लिए कही ये बात

अमृतसर जेल में बंद पाकिस्तानी नागरिक फातिमा उसकी बहन मुमताज और 10 साल की बेटी हिना को गुरुवार को जेल से रिहा कर दिया गया। 12 साल बाद फातिमा अपनी बहन व बेटी के साथ आज सुबह अपने वतन रवाना हो गए।

आज का दिन फातिमा के लिए जन्नत जैसा होगा क्योंकि उनका अपने वतन वापस लौटना एक ख्वाब जैसा था। वतन वापसी से पहले फातिमा ने पीएम मोदी का शुक्रिया अदा किया।

साथ ही फातिमा ने कहा कि यह पीएम मोदी के विशेष प्रयासों से द्वारा ही संभव हुआ है, इसके लिए 'मैं भारत को सलाम करती हूं।' इन तीनों की वतन वापसी में में अमृतसर की वकील नवजोत कौर चब्बा ने प्रमुख भूमिका निभाई है। इन तीनों के साथ ही आज भारत ने 18 पाकिस्तानी कैदियों को रिहाई दी है।

क्या था मामला

फातिमा और उसकी बहन मुमताज साल 2006 में समझौता एक्सप्रेस से भारत आई थीं। जहां अटारी रेलवे स्टेशन पर कस्टम विभाग को तलाशी के दौरान दोनों के पास से हेरोइन मिली थी। इस पर फातिमा और उसकी बहन का कहना था कि किसी ने हमें यह सामान भारत पहुंचाने के लिए दिया था। हमें नहीं मालूम था कि सामान में हेरोइन छिपाकर रखी गई है।

इस मामले में ही अदालत ने दोनों को 10-10 साल की कैद व 4 लाख रुपए का जुर्माना देने की सजा सुनाई थी। कैद में ही फातिमा ने एक बच्ची (हिना) को जन्म दिया। 10 साल की सजा पूरी करने के बाद भी इन तीनों की रिहाई आर्थिक दंड न देने की वजह से नहीं हो पा रही थी।

जिसके बाद वकील नवजोत कौर चब्बा ने एक समाज सेवी संस्था के साथ मिलकर 4 लाख रुपए आर्थिक दंड का भुगतान करा दिया लेकिन फिर भी रिहाई नहीं हो सकी।

इसके बाद वकील चब्बा ने पीएम मोदी को मामले की जानकारी देते हुए एक पत्र लिखा। जिसमें PMO से 17 अक्टूबर को वकील को पत्र का जवाब देते हुए कहा कि 2 नवंबर को तीनों कैदियों की रिहाई हो जाएगी।

Loading...
Share it
Top