Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

पनामा मामला: पाक के पूर्व पीएम नवाज शरीफ समेत पूरे परिवार पर आरोप दर्ज

नवाज शरीफ की बेटी मरियम और उनके दामाद रिटायर्ड कैप्टन मोहम्मद सफदर पर भी आरोप तय हो गए हैं।

पनामा मामला: पाक के पूर्व पीएम नवाज शरीफ समेत पूरे परिवार पर आरोप दर्ज

पनामा मामले में पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री नवाज शरीफ की मुश्लिलें बढ़ गई हैं। भ्रष्टाचार के मामले में सुप्रीम कोर्ट ने नवाज समेत उनके पूरे परिवार पर आरोप दर्ज कर दिए हैं.

नवाज शरीफ की बेटी मरियम और उनके दामाद रिटायर्ड कैप्टन मोहम्मद सफदर पर भी आरोप तय हो गए हैं। इन तीनों पर कोर्ट ने लंदन में फ्लैट्स के एक मामले में आरोप तय किए हैं, ये आरोप गुरुवार को हुई सुनवाई के दौरान तय किए गए।

यह भी पढ़ें- अमेरि‍की विदेश मंत्री ने पाक और चीन को लगाई लताड़, US को बताया भारत का सच्चा साथी

मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, कोर्ट में सुनवाई के दौरान मरियम नवाज और उनके पति कैप्टन मोहम्मद सफदर मौजूद थे। वहीं नवाज शरीफ की तरफ के उनके वकील जफर खान मौजूद थे।

नवाज शरीफ को जुलाई महीने में पाकिस्तान सुप्रीम कोर्ट ने अज्ञात स्रोतों से अघोषित आय के मामले में प्रधानमंत्री पद के लिए अयोग्य ठहराया था। इसके बाद नवाज शरीफ को प्रधानमंत्री के पद से इस्तीफा भी देना पड़ा था।

ये है नजाव शरीफ से जुड़ा मामला

नवाज शरीफ के बच्चों हुसैन और हसन के अलावा बेटी मरियम नवाज ने टैक्स हैवन माने जाने वाले ब्रिटिश वर्जिन आइलैंड में कम से कम चार कंपनियां शुरू की थी। इन कंपनियों से इन्होंने लंदन में 6 बड़ी प्रॉपर्टीज खरीदी थी।

शरीफ के परिवार ने इन प्रॉपर्टीज को गिरवी रखकर डॉएचे बैंक से करीब 70 करोड़ रुपए का लोन लिया। इसके अलावा, दूसरे दो अपार्टमेंट खरीदने में बैंक ऑफ स्कॉटलैंड ने उनकी मदद की थी। जिसके बाद पनामा लीक मामले में नजाव को लेकर ये बड़ा खुलासा सामने आया था।

पनामा लीक मामला

ब्रिटेन से लीक हुए टैक्स डॉक्युमेंट्स बताते हैं कि कैसे दुनियाभर के 140 नेताओं और सैकड़ों सेलिब्रिटीज ने टैक्स हैवन कंट्रीज में पैसा इन्वेस्ट किया। इनमें नवाज शरीफ का भी नाम शामिल है।

बता दें कि लीक हुए डॉक्युमेंट्स खासतौर पर पनामा, ब्रिटिश वर्जिन आइलैंड और बहामास में हुए इन्वेस्टमेंट के बारे में बताते हैं। सवालों के घेरे में आए लोगों ने इन देशों में इन्वेस्टमेंट इसलिए किया, क्योंकि यहां टैक्स रूल्स काफी आसान हैं और क्लाइंट की आइडेंडिटी का खुलासा नहीं किया जाता।

Next Story
Top