Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

पाक ने पुंछ में नियंत्रण रेखा के पास की अधाधुंध फायरिंग

पाकिस्तानी सेना ने एक सप्ताह से भी कम समय में दूसरी बार संघर्षविराम का उल्लंघन किया है

पाक ने पुंछ में नियंत्रण रेखा के पास की अधाधुंध फायरिंग
जम्मू. पाकिस्तानी सेना ने सीमा पर सप्ताह से भी कम समय में दूसरी बार संघर्षविराम का उल्लंघन करते हुए जम्मू-कश्मीर के पुंछ सेक्टर में नियंत्रण रेखा के पास अग्रिम चौकियों पर आज मोर्टार दागे और छोटे हथियारों से गोलीबारी की।

रक्षा प्रवक्ता ने मंगलवार को कहा, पाकिस्तानी सैन्य बलों ने जम्मू-कश्मीर के पुंछ सेक्टर में नियंत्रण रेखा के पास आधी रात को भारतीय सैन्य चौकियों पर बिना किसी उकसावे के अंधाधुंध गोलीबारी शुरू की। प्रवक्ता ने बताया कि पाकिस्तानी सेना ने पुंछ सेक्टर में चौकियों पर भारी मोर्टार दागे और स्वचालित एवं छोटे हथियारों से गोलीबारी की।

उन्होंने कहा, हमारे सैन्य बल उचित जवाबी कार्रवाई कर रहे हैं और आखिरी रिपोर्ट आने तक हमारे सैन्य बलों में किसी के हताहत होने या किसी प्रकार का कोई नुकसान होने की कोई सूचना नहीं है। गोलीबारी अब भी जारी है। पुलिस ने बताया कि पुंछ में नियंत्रण रेखा के निकट शाहपुर कंडी इलाके में दोनों ओर से रुक-रुककर गोलीबारी हो रही है।

पाकिस्तानी सेना ने एक सप्ताह से भी कम समय में दूसरी बार संघर्षविराम का उल्लंघन किया है। इससे पहले पाकिस्तानी सेना ने जम्मू के अखनूर सेक्टर में नियंत्रण रेखा के पास 2 सितंबर को अग्रिम सैन्य चौकियों पर गोलीबारी करके संघर्षविराम का उल्लंघन किया था। पाकिस्तानी सेना ने 14 अगस्त, 2016 को भी जम्मू-कश्मीर के पुंछ सेक्टर के दो अलग-अलग इलाकों में नियंत्रण रेखा पर भारतीय चौकियों को निशाना बनाया था और दो बार संघर्षविराम का उल्लंघन किया था। इस दौरान 50 वर्षीय एक महिला घायल हो गई थी।

अधिकारी ने बताया कि पाकिस्तान की ओर से पिछले साल की गई गोलीबारी की 405 घटनाओं में 17 असैन्य नागरिक मारे गए हैं और 71 अन्य लोग घायल हुए हैं। उन्होंने बताया कि संघर्षविराम के 253 मामले अंतरराष्ट्रीय सीमा के पास हुए और 152 घटनाएं नियंत्रण रेखा के पास दर्ज की गईं। संघर्षविराम उल्लंघनों के कारण करीब 8000 लोग अस्थायी रूप से प्रभावित हुए हैं और उन्हें सुरक्षित स्थानों पर स्थानांतरित करना पड़ा।
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-

Next Story
Top