Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

पाकिस्तान में 500 हिंदुओं का जबरन धर्मांतरण, कबूल कराया इस्लाम

पाकिस्तान में जबरन धर्म परिवर्तन का यह कार्यक्रम पाकिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति और सेना प्रमुख जनरल परवेज मुशर्रफ की पार्टी ऑल पाकिस्तान मुस्लिम लीग के पदाधिकारियों ने आयोजित कराया था।

पाकिस्तान में 500 हिंदुओं का जबरन धर्मांतरण, कबूल कराया इस्लाम

पाकिस्तान के सिंध प्रांत के मातली जिले में 25 मार्च को 50 हिंदू परिवारों के 500 लोगों का जबरन धर्म परिवर्तन कराने का मामला सामने आया है। इनमें से ज्यादातर वो लोग थे, जो भारत में शरण लेने आए थे। लेकिन लॉन्ग टर्म तक का वीजा ना मिलने की वजह से इन्हें पाकिस्तान वापस लौटना पड़ा था।

जानकारी के मुताबिक, जबरन धर्म परिवर्तन का यह कार्यक्रम पाकिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति और सेना प्रमुख जनरल परवेज मुशर्रफ की पार्टी ऑल पाकिस्तान मुस्लिम लीग के पदाधिकारियों ने आयोजित कराया था।

खबर है कि पाकिस्तान मुस्लिम लीग के पदाधिकारियों ने हिंदुओं के 50 परिवारों के 500 लोगों पर दबाव बनाकर उन्हें जबरन इस्लाम कबूल करने के लिए मजबूर किया।

यह भी पढ़ें- 28 मार्च से पहले निपटा लें बैंक के जरूरी काम, 3 अप्रैल को खुलेंगे बैंक

आश्चर्य की बात तो यह है कि जब पाकिस्तान में 500 हिंदुओं का जबरन धर्मान्तरण कराया जा रहा था, उससे महज 5 दिन पहले ही जिनेवा में संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद में सिंध प्रांत में अल्पसंख्यक हिंदुओं पर हो रहे अत्याचारों और धर्मांतरण पर चिंता जताई जा रही थी।

वीडियो आया सामने

धर्मांतरण कराने वाले कार्यक्रम का एक वीडियो राजस्थान के सीमावर्ती जिलों में रह रहे पाक विस्थापितों के पास पहुंचा है। पाकिस्तानी विस्थापितों के लिए काम करने वाली संस्था लोक सीमांत संगठन के अध्यक्ष हिंदू सिंह सोढ़ा के पास भी ये वीडियो आया है।
साथ ही जिन लोगों का जबरन धर्म परिवर्तन कराया गया, उनमें से 2 लोगों की हिंदू सिंह सोढ़ा से बातचीत भी हुई। इस वीडियो में 500 लोगों का जबरन धर्म परिवर्तन कराया जा रहा है। इस वीडियो में साफ दिख रहा है कि जो लोग कलमा पढ़ रहे है, उनके चेहरे पर खुशी नहीं है।

ये लोग बच्चों और पर्दे में बैठी महिलाओं के साथ जबरन धर्म परिवर्तन कर रहे हैं। संस्था के अध्यक्ष सोढ़ा का कहना है कि ये लोग पाकिस्तान छोड़कर भारत आए थे, लेकिन किन्ही कारणों से उन्हे वापस जाना पड़ा। उन्हीं लोगों के परिवारों को टारगेट बनाया जा रहा है।

बता दें कि पिछले तीन साल में 1,379 हिंदुओं को पाकिस्तान लौटना पड़ा है। जिनमें से 964 को तो इंटेलिजेंस एजेंसियों ने ही डिपार्ट किया था।

Next Story
Top