Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

''सर्जरी'' के बाद पाकिस्तान अब भी बेहोशी की हालत में: मनोहर पर्रिकर

रक्षा मंत्री ने कहा सजिर्कल स्ट्राइक के बाद पाकिस्तान कोमा में है।

नई दिल्ली. जम्मू-कश्मीर में सेना के विशेष बलों द्वारा नियंत्रण रेखा लांघकर सजिर्कल स्ट्राइक को अंजाम देने के बाद सार्वजनिक तौर पर रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर ने न सिर्फ अभियान में शामिल जवानों की पीठ थपथपाई। बल्कि पाकिस्तान की मौजूदा हालत पर तंज कसते हुए कहा कि सजिर्कल स्ट्राइक के बाद पाकिस्तान कोमा में है। जैसे सर्जरी के बाद मरीज बेहोश रहता है, उसी तरह सजिर्कल ऑपरेशन होने के बाद पाकिस्तान बेहोशी में है। उसे पता ही नहीं चला कि हमारी स्पेशल फोर्सेज ने अपना काम कर दिया। इसलिए वो इंकार कर रहा है।
पर्रिकर ने कहा, 'लक्षित हमले के बाद पाकिस्तान की हालत सर्जरी के बाद बेहोश रोगी की तरह है जिसे नहीं मालूम कि उसकी सर्जरी हो चुकी है। लक्षित हमले के दो दिन बाद भी पाकिस्तान को नहीं पता कि क्या हुआ है।' उन्होंने कहा कि भारत शांति को पसंद करता है और अनावश्यक हमले में विश्वास नहीं करता लेकिन वह आतंकवाद को स्वीकार नहीं कर सकता। उन्होंने कहा कि हमले का उद्देश्य पाकिस्तान को संदेश देना था कि भारत के सैनिक पलटवार करना जानते हैं।
यह स्थिति पीओके में चल रहे आतंकियों के 8 लॉन्च पैड पर लक्षित हमला करने के दो दिन बाद की है कि पाक को नहीं पता कि क्या हुआ है। जो हमें चोट पहुंचाएगा हम उसका पूरा जवाब देंगे। एक लॉन्च पैड पर 20 से 30 आतंकियों का समूह घुसपैठ के लिए घात लगाए बैठा रहता है। पाक सर्मथित आतंकियों द्वारा पीओके से एलओसी लांघकर उरी के ब्रिगेड मुख्यालय पर हमला कर 19 जवानों को मौत के घात उतार दिया गया था। इसके बाद देश में पाकिस्तान से बदला लेने को लेकर जनसैलाब उमड़ पड़ा।
सेना की तुलना हनुमान से करते हुए उन्होंने रामायण का जिक्र किया जिसमें हनुमान को जामवंत द्वारा उनकी असाधारण शक्तियों के बारे में याद दिलाने पर वह समुद्र लांघ गए। पर्रिकर ने कहा, 'भारतीय सेना हनुमान की तरह है जो लक्षित हमले से पहले अपनी ताकत के बारे में नहीं जानती थी।' सटीक कार्रवाई के लिए सेना को बधाई देते हुए मंत्री ने कहा कि उन्होंने अद्वितीय कार्य के लिए सभी सैनिकों को बधाई दी है।
हमले के बाद पहली सार्वजनिक प्रतिक्रिया में पर्रिकर ने कहा, 'लक्षित हमले से हमारे सैनिकों को उनकी क्षमता का अंदाजा लगा। हमले के बाद पाकिस्तान किंकर्तव्यविमूढ़ है और समझ नहीं पा रहा है कि क्या प्रतिक्रिया दे।'
पर्रिकर ने पौड़ी जिले के पीठसेन में एक सभा को संबोधित करते हुए कहा, ‘पाकिस्तान के अधिकारियों को भनक लगे बगैर हमारे कमांडो ने मनचाहा काम कर दिया।’ उत्तराखंड के स्वतंत्रता सेनानी वीर चंद्र सिंह गढ़वाली की प्रतिमा का उनके पैतृक गांव पीठसेन में अनावरण करते हुए रक्षा मंत्री एक सभा को संबोधित कर रहे थे।
भारत ने नियंत्रण रेखा के पार सात आतंकवादी ठिकानों पर 28-29 सितम्बर की रात को लक्षित हमला किया था जिसमें पीओके के आतंकवादियों को ‘काफी नुकसान’ पहुंचा था। पौड़ी के सांसद और पूर्व मुख्यमंत्री भुवन चंद्र खंडूरी के साथ आए पर्रिकर का स्वागत पीठसेन में पार्टी के वरिष्ठ नेता सतपाल महाराज, पूर्व मुख्यमंत्री भगत सिंह कोश्यारी और रमेश पोखरियाल निशंक के अलावा प्रदेश भाजपा के अध्यक्ष अजय भट्ट ने किया।
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Next Story
Top