Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

भारत-पाक विमान सेवा को बंद करने पर विचार कर रहा PMO

पीएमओ भारत और पाकिस्तान के बीच एयर कनेक्टिविटी की समीक्षा करना चाहता है।

भारत-पाक विमान सेवा को बंद करने पर विचार कर रहा PMO
नई दिल्ली. उरी हमले के बाद भारत सरकार का पाकिस्तान को लेकर रुख हर दिन सख्त होता जा रहा है। उरी आतंकी हमले के जवाब में पीओके में बुधवार देर रात हुए भारतीय सेना के सर्जिकल स्ट्राइक के बाद मोदी सरकार पाकिस्तान को एक और झटका दे सकती है। पाकिस्तान के साथ सिंधु जल समझौता और उसको दिए गए मोस्ट फेवर्ड नेशन के दर्जे की समीक्षा तो हो ही रही है, साथ ही पाक में होने वाले सार्क सम्मेलन का बहिष्कार कर उसे सबसे बड़ा झटका दिया।
अब प्रधानमंत्री कार्यालय (पीएमओ) की नजर भारत-पाकिस्तान एयरलाइन पर है। भारत अब हवाई यात्राओं पर पाकिस्तान को झटका देने की तैयारी में है। इस नेटवर्क से ही दोनों देशों के बीच सीधी उड़ानें मिलती हैं और दोनों देशों के विमान एक दूसरे के वायुक्षेत्र का इस्तेमाल करते हैं।
एनबीटी की रिपोर्ट के मुताबिक, पीएमओ ने भारत-पाकिस्तान के बीच उड़ानों पर रिपोर्ट तलब की है। पीएमओ भारत और पाकिस्तान के बीच एयर कनेक्टिविटी की समीक्षा करना चाहता है। पीएमओ ने नागरिक उड्डयन मंत्रालय से इसकी जानकारी मांगी है। मोदी सरकार पाकिस्तान को एमएफएन दर्जे पर पुनर्विचार कर रही है और इसमें एयर कनेक्टिविटी भी एक मुद्दा होगा।
उरी हमले के बाद भारत का रुख इस बार सख्त है। सबसे पहले सरकार ने सिंधु जल संधि पर समीक्षा बैठक बुलाई जिसमें पानी का अधिक से अधिकर इस्तेमाल और कई प्रोजेक्ट शुरू करने जैसे तमाम विकल्पों पर विचार हुआ। इसे लेकर पाकिस्तान इस कदर घबराया कि उसने वर्ल्ड बैंक से गुहार भी लगाई।
अगर एमएफएन दर्जे को रद्द करने का फैसला होता है तो पाकिस्तान को ये दूसरा झटका होगा। इसी के साथ भारत एयर कनेक्टिविटी पर भी कड़ा फैसला ले सकता है। यानि दोनों देशों के बीच होने वाली उड़ानों पर भी भारत-पाक संबंधों का असर दिखेगा।
आपको बता दें कि फिलहाल कोई भी भारतीय विमान सेवा कंपनी पाकिस्तान के लिए फ्लाइट्स उपलब्ध नहीं कराते हैं। एक सप्ताह में पाकिस्तान की पांच फ्लाइट्स भारत आती हैं। इससे पहले भारतीय विमान कंपनियों ने सरकार से पाकिस्तानी वायु क्षेत्र में उड़ान न भरने की बात कही थी और नए हवाई मार्ग के इस्तेमाल की अनुमति मांगी थी।
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Next Story
Share it
Top