Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

अलर्ट: ''पाबुक तूफान'' का कोहराम, ओडिशा के इन 7 जिलों में अलर्ट जारी

पाबुक तूफान 7 जनवरी तक ओडिशा तट पर दस्तक देगा। इसके चलते राज्य के 7 जिलों में अलर्ट जारी कर दिया गया है। इन सात जिलों में बालेश्वर, भदरक, जगतसिंहपुर, केंद्रपाड़ा, पुरी, गंजम और खुर्दा के नाम शामिल हैं।

अलर्ट:

पाबुक तूफान 7 जनवरी तक ओडिशा तट पर दस्तक देगा। इसके चलते राज्य के 7 जिलों में अलर्ट जारी कर दिया गया है। इन सात जिलों में बालेश्वर, भदरक, जगतसिंहपुर, केंद्रपाड़ा, पुरी, गंजम और खुर्दा के नाम शामिल हैं। मछुआरों को समुद्र में नहीं जाने को कहा गया है। फिल्हाल थाईलैंड के नखोन सी थम्मारात प्रांत में तूफान 'पाबुक' कोहराम मचा रहा है।

पाबुक तूफान के मद्देनजर पहले ही लगभग 7,000 लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचा दिया गया है। लेकिन अभी भी 80000 से अधिक लोगों को बचाने का अभियान जारी है। आपदा रोकथाम एवं शमन विभाग के मंत्री उधोमपोर्न कान ने मीडिया को बताया कि इस तूफान से देश में पर्यटकों के साथ कुछ लोकप्रिय द्वीप प्रभावित हुए हैं, जहां उड़ानें और नौका सेवाएं रद्द कर दी गई हैं।

इस बीच बैंकॉक एयरवेज ने सामुई हवाईअड्डे के लिए सभी उड़ानों को रद्द करने की घोषणा की है। एयर एशिया और नोक एयर जैसी किफायती एयरलाइनों ने भी सेवाओं को रद्द करने की घोषणा की है। विशेषज्ञों ने बताया कि तेज हवाएं खाड़ी और समुद्र तट के पास के हिस्से में पांच मीटर ऊंची समुद्री लहरें पैदा कर रही हैं।

पीएनबी घोटाला: ED की बड़ी कार्रवाई, चोकसी की थाईलैंड स्थित फैक्ट्री को किया कुर्क

सामुई, ताओ और फान्गन द्वीपों की उड़ानें रद्द-

थाईलैंड के मौसम विज्ञान विभाग के अनुसार, तूफान 'पाबुक' उम्मीद से अधिक तेजी से आगे बढ़ रहा है और यह दोपहर 12.45 बजे 75 किमी प्रति घंटा की तेज हवाओं के साथ नखोन सी थम्मारात पर पहुंचा। तूफान की वजह से थाईलैंड के दक्षिणी तट पर भारी बारिश की आशंका है। इस दौरान बाढ़ और भूस्खलन का भी खतरा बढ़ गया है। इसके चलते सामुई, ताओ और फान्गन पर्यटक द्वीपों तक चलने वाली नौका सेवाओं को रोक दिया गया है और स्थानीय प्रशासन बाढ़ की स्थिति को लेकर निकासी प्रक्रिया के लिए तैयार है।

ओडिशा ने बीते साल भी झेला दंश

पिछले साल अक्टूबर महीने में ओडिशा में आए चक्रवाती तूफान तितली ने भारी तबाही मचाई थी। इस तूफान में 57 लोगों की मौत हो गई थी। मूसलाधार बारिश के कारण आई बाढ़ ने राज्य में जनजीवन को अस्त व्यस्त कर दिया था। इस तूफान में 57,131 घर तबाह हो गए थे जबकि करीबन 2200 करोड़ के नुकसान होने का आंकलन किया गया था।

Share it
Top