Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

तेल कंपनियों में ‘बर्खास्त’ स्वतंत्र निदेशकों के पद अभी भी खाली

पेट्रोलियम मंत्रालय के पास उपलब्ध आंकड़ों के अनुसार सार्वजनिक क्षेत्र की गैस कंपनी गेल इंडिया लि. इससे सबसे ज्यादा प्रभावित हुई है। स्वतंत्र निदेशकों के उसके सभी आठ पद खाली पड़े हैं।

तेल कंपनियों में ‘बर्खास्त’ स्वतंत्र निदेशकों के पद अभी भी खाली

नई दिल्ली.भाजपा की अगुवाई वाली राजग सरकार द्वारा सार्वजनिक क्षेत्र की शीर्ष तेल कंपनियों के ज्यादातर स्वतंत्र निदेशकों को बर्खास्त किए जाने के बाद ओएनजीसी तथा गेल जैसी प्रमुख कंपनियों के निदेशक मंडल अभी भी इनके बिना ही काम कर रहे हैं।

ऊंचे ऋण से बाजार प्रभावित:आरबीआई डिप्टी गवर्नर

पेट्रोलियम मंत्रालय के पास उपलब्ध आंकड़ों के अनुसार सार्वजनिक क्षेत्र की गैस कंपनी गेल इंडिया लि. इससे सबसे ज्यादा प्रभावित हुई है। स्वतंत्र निदेशकों के उसके सभी आठ पद खाली पड़े हैं। इसी प्रकार, देश की सबसे ज्यादा लाभ कमाने वाली कंपनी तेल एवं प्राकृतिक गैस निगम (ओएनजीसी) में केवल एक ही स्वतंत्र निदेशक है जबकि इसमें नौ स्वतंत्र निदेशकों की जरूरत है। इसी प्रकार देश की सबसे बड़ी तेल कंपनी इंडियन आॅयल कारपोरेशन (आईओसी)में स्वतंत्र निदेशकों के 10 पदों में से सात खाली पड़े हैं।

जेटली ने पूंजी बाजार की समीक्षा की, अप्रैल में आएंगे नतीजे

मैंगलोर रिफाइनरी एंड पेट्रोकेमिकल्स (एमआरपीएल) में स्वतंत्र निदेशक के सभी छह पद खाली पड़े हैं। सत्ता में आने के बाद भाजपा नीत राजग सरकार ने पूर्व संप्रग सरकार द्वारा नियुक्त अधिकतर स्वतंत्र निदेशकों को हटा दिया है। मौजूदा सरकार ने उनकी नियुक्ति की पुष्टि के लिये शेयरधारकों के समक्ष जरूरी प्रस्ताव लेकर नहीं आई है। कंपनी निदेशक मंडल में नियुक्त पूर्णकालिक और अंशकालिक दोनों निदेशकों की नियुक्ति के बारे मे कंपनी शेयरधारकों की मंजूरी लेनी होती है। यह मंजूरी सालाना आम बैठक, असाधारण बैठक या डाक के जरिये मतदान के माध्यम से ली जा सकती है।
नियुक्ति प्रक्रिया जारी है
सरकार तथा कंपनी सूत्रों का कहना है कि अभी तक उनकी जगह किसी की नियुक्ति नहीं हुई है, नियुक्ति प्रक्रिया जारी है।

नीचे की स्लाइड्स में पढ़िए, पूरी खबर-

खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-

Next Story
Top