Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

नोटबंदीः अस्पताल ने नहीं लिए 500-1000 के नोट, बच्चे की मौत

अस्पताल ने नहीं लिए 500-1000 के नोट

नोटबंदीः अस्पताल ने नहीं लिए 500-1000 के नोट, बच्चे की मौत
मैनपुरी. देशभर में नोटबंदी को लेकर कई तरह की परेशानियां देखने को मिल रही है। आमतौर पर लोग सुबह से ही बैंकों और एटीएम के बाहर घंटों लाइन में खड़े दिखाई दे रहे हैं। लेकिन नोटबंदी के कई दर्दनाक पहलु भी सामने आ रहे हैं। यूपी में दो जगहों पर इलाज में देरी की वजह से दो बच्चों की मौत हो गई। परिवार का आरोप है कि अस्पताल में 500 और हजार के नोट नहीं लिए गए और इलाज में देरी की वजह मौत बन गई।
अस्पताल ने नहीं लिए 500-1000 के नोट
यूपी के मुरादाबाद में सर सैयद नगर करुला की मियां कालोनी में 13 साल के आफताब को कल बुखार के बाद एक प्राइवेट अस्पताल ले जाया गया। परिवार का आरोप है कि अस्पताल ने पांच सौ और हजार रुपये के नोट लेने से मना कर दिया और इलाज में देरी की वजह से आफताब की मौत हो गई।
नहीं थे खुले नोट इसलिए हुई बच्चे की मौत
बेटे को खोने वाला परिवार मोदी सरकार के फैसले को कोस रहा है और अस्पताल के खिलाफ कानूनी कार्रवाई की तैयारी कर रहा है। यूपी के मैनपुरी में इस परिवार का आरोप है कि खुले नोट नहीं होने की वजह से इनके बच्चे की मौत हो गई। परिवार ने मैनपुरी के एक डॉक्टर पर आरोप लगाया है।

जानलेवा साबित सरकार का फैसला
वहीं, अब प्रशासन जांच कर कार्रवाई की बात कर रहा है। मोदी सरकार ने सरकारी अस्पताल में 500 और हजार के नोट लेने को मंजूरी दी है, लेकिन प्राइवेट अस्पताल में ऐसा नहीं है। यही वजह है कि निजी अस्पताल 500 और हजार रुपये के नोट लेने से मना कर रहे हैं और इसका अंजाम दर्दनाक भी साबित हो रहा है।
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Next Story
Top