Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

पाकिस्तान: हाफिज पर कार्रवाई सिर्फ दिखावा, ये है पाक का असली सच

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री शाहिद खकान अब्बासी को डर था कि हाफिज पर सख्त कार्रवाई से उनके लिए बड़ा राजनीतिक संकट खड़ा हो सकता है।

पाकिस्तान: हाफिज पर कार्रवाई सिर्फ दिखावा, ये है पाक का असली सच

26/11 मुंबई हमलों के मास्टरमाइंड हाफिज सईद की संस्था जमात उद दावा और फलाह-ए-इंसानियत के खिलाफ कड़ी कार्रवाई के फैसले से पाकिस्तान ने किस तरह हाथ खींचे, इसकी जानकारी अब निकलकर सामने आई है।

पाकिस्तानी मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, पाकिस्तान के प्रधानमंत्री शाहिद खकान अब्बासी को डर था कि हाफिज पर सख्त कार्रवाई से उनके लिए बड़ा राजनीतिक संकट खड़ा हो सकता है।

हाल ही में पाकिस्तान में हाफिज के दोनों संगठनों द्वारा संचालित एक मदरसे और चार डिस्पेंसरियों को सरकार ने अपने नियंत्रण ले लिया था, लेकिन अब यह जानकारी सामने आ रही है कि कार्रवाई सिर्फ 'दिखावा' थी, क्योंकि इन संगठनों के लिए काम करने वालों के खिलाफ कोई केस दर्ज नहीं किया गया है।

इसे भी पढ़ें- J&K: पाकिस्तान ने उरी सेक्टर में किया सीजफायर का उल्लंघन, फायरिंग में तीन नागरिक घायल

सूत्रों के हवाले से मीडिया रिपोर्ट्स में बताया गया कि पिछले महीने हुई एक बैठक में पीएम अब्बासी हाफिज के दोनों संगठनों पर बैन लगाए जाने के पक्ष में थे, लेकिन आंतरिक मंत्री अहसान इकबाल का मानना था कि अगर इस समय इन संगठनों पर प्रतिबंध लगाया जाता है तो सरकार के लिए वैसा ही संकट खड़ा हो सकता है, जैसा पिछले साल नवंबर में हुआ था।

बता दें कि पिछले साल नवंबर में चुनाव सुधार विधेयक, 2017 में संशोधन के खिलाफ शुरू किया गया प्रदर्शन काफी हिंसक हो गया था। तहरीक-ए-लब्बैक या रसूल अल्लाह नाम के इस्लामिक संगठन के इस प्रदर्शन के चलते इस्लामाबाद और रावलपिंडी की रफ्तार थम गई थी। बाद में कानून मंत्री को अपने पद से इस्तीफा देना पड़ा था।

Next Story
Top