Web Analytics Made Easy - StatCounter
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

ये हैं निर्भया गैंगरेप के 6 गुनहगार, 1 ने दी जान- पढ़िए उनके बारे में

देश की राजधानी दिल्ली में 16 दिसंबर 2012 में हुए निर्भया कांड की आज छठी बरसी है। 16 दिसंबर की रात को चलती बस में एक मेडिकल की छात्रा (निर्भया) के साथ गैंगरेप की वारदात को अंजाम दिया गया था।

ये हैं निर्भया गैंगरेप के 6 गुनहगार, 1 ने दी जान- पढ़िए उनके बारे में

देश की राजधानी दिल्ली में 16 दिसंबर 2012 में हुए निर्भया कांड की आज छठी बरसी है। 16 दिसंबर की रात को चलती बस में एक मेडिकल की छात्रा (निर्भया) के साथ गैंगरेप की वारदात को अंजाम दिया गया था।

गैंगरेप की इस घटना ने पूरे देश को शर्मसार कर दिया था। इस घटना से गुस्साए लोगों ने इंडिया गेट से लेकर जंतर-मंतर तक प्रदर्शन किया। 23 वर्षीया निर्भया ने मौत से 13 दिन तक जूझते हुए इलाज के दौरान सिंगापुर में दम तोड़ दिया था। इस हादसे के बाद को 'दुष्कर्म' की राजधानी' की संज्ञा दी जाने लगी।

निर्भया के साथ 6 लोगों ने गैंगरेप किया था जिसमें एक नाबालिग भी शामिल था। निर्भाया के साथ रेप करने के बाद दरिंदों ने उसके गुप्तांग में लोहे की रॉड डाल दी थी। आखिर मौत से 13 दिन तक जूझते हुए उसने सिंगापुर में दम तोड़ दिया था।

ये हैं 6 दरिंदे जिन्होंने रेप की वारदात को दिया था अंजाम

* राम सिंह- राम सिंह पेशे से ड्राइवर था। जिस बस में रेप हुआ था उस बस को राम सिंह ही चला रहा था। ड्राइवर राम सिंह ने गैंगरेप की वारदात को अंजाम देने के बाद निर्भया और उसके दोस्त एक लोह के रॉड से बुरी तरह पीटाकर घायल कर दिया था।

इस घटना के बाद पुलिस ने आगे दिन ड्राइवर राम सिंह को गिरफ्तार कर लिया था। दिल्ली की तिहाड़ जेल में 10 मार्च 2013 को राम सिंह ने आत्महत्या कर ली थी।

* मुकेश सिंह- 16 दिसंबर 2012 की रात जिस बस में निर्भया के साथ रेप हुआ था उस बस में मुकेश सिंह भी बस में सवार था। मुकेश सिंह बस में साफ-सफाई का कार्य करता था। मुकेश ने भी गैंगरेप के बाद निर्भया और उसके पुरुष मित्र को पीटा था। मुकेश सिंह अभी तिहाड़ जेल में है।

* पवन गुप्ता- पवन गुप्ता पेशे से फल विक्रता था जो कि दिल्ली में फल बेचने का काम किया करता था। पवन गुप्ता भी गैंगरेप के दौरान बस में ही था। पवन गुप्ता भी अन्य दोषियों के साथ जेल में बंद है।

* विनय शर्मा- विनय शर्मा पेशे से फिटनेस ट्रेनर था। गैंगरेप के समय विनय शर्मा भी बस में मौजूद था। उसने अपने दोस्तों के साथ निर्भया के साथ दरिंदगी की थी। जिस समय उसके पांच दोस्त रेप कर रहे थे तो विनय शर्मा बस चला रहा था।

* अक्षय ठाकुर- अक्षय ठाकुर बिहार का रहने है और वह अपनी पढ़ाई छोड़कर घर से भागकर देश की राजधानी दिल्ली आ गया था। दिल्ली आने के बाद अक्षय ठाकुर की दोस्ती फल विक्रेता राम सिंह से हो गई थी। अक्षय ठाकुर ने तिहाड़ जेल में अपनी जान को खतरा बताया था जिसके बाद सुरक्षा को बढ़ा दिया गया था।

* नाबालिग- निर्भया के साथ दरिंदगी (गैंगरेप) करने में 5 आरोपियों के छठा शख्स आरोपी नाबालिग था। नाबालिग को गिरफ्तार करके जुवेनाइल जस्टिस बोर्ड ने तीन साल के लिए बाल सुधार गृह भेज दिया था। साल 2016 में दिसंबर महीने में नाबालिग को जेल से रिहा कर दिया गया था।

निर्भया को मिला इंसाफ

देश की राजधानी दिल्ली में 16 दिसंबर 2012 को आधी रात को हुए निर्भया गैंगरेप मामले में सुप्रीम कोर्ट 9 जुलाई 2018 को बड़ा फैसला सुनाया। कोर्ट ने तीन दोषियों की पुनर्विचार याचिका पर कोर्ट ने फैसला बरकरार रहेगा, और कहा की तीनों को फांसी होगी।

Next Story
Share it
Top