Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

नेहरू ने राजेंद्र प्रसाद को राष्ट्रपति बनने से रोकने के लिए चली थीं तिकड़में

11 सितंबर को राजेंद्र प्रसाद ने साफ शब्दों में नेहरू को लिखा कि वह हमेशा पार्टी के साथ खड़े रहे हैं और उनसे बेहतर व्यवहार किया जाना चाहिए।

नेहरू ने राजेंद्र प्रसाद को राष्ट्रपति बनने से रोकने के लिए चली थीं तिकड़में
नई दिल्ली. सियासी तिकड़मों के मंझे बाजीगर पंडित जवाहरलाल नेहरू ने देश के पहले राष्ट्रपति डॉ. राजेंद्र प्रसाद को भी नहीं बख्शा था। नेताजी सुभाष चंद्र बोस से वैचारिक मतभेद के लिए ख्यात आजाद भारत के पहले प्रधानमंत्री नेहरू ने अपनी विद्वता और ईमानदारी के लिए विख्यात राजेंद्र प्रसाद को राष्ट्रपति बनने से रोकने के लिए एड़ी-चोटी का जोर लगा दिया था। इसके लिए उन्होंने झूठ भी बोला था। नेहरू ने अपने इस झूठ में लौहपुरुष सरदार वल्लभ भाई पटेल का नाम भी घसीटा था। यह दावा एक नई किताब में किया गया है।
"˜नेहरू: अ ट्रबल्ड लीगेसी" नामक नई किताब में पूर्व खुफिया अधिकारी आरएनपी सिंह ने दावा किया है कि नेहरू ने प्रसाद को भारत का राष्ट्रपति बनने से रोकने के लिए तमाम जतन किए थे। यह किताब विजडम ट्री से प्रकाशित हुई है और इसमें महात्मा गांधी, नेहरू, पटेल और तत्कालीन अन्य नेताओं के पत्रों को भी शामिल किया गया है। सरकारी दस्तावेजों का हवाला देते हुए सिंह ने लिखा है, 'नेहरू ने 10 सितंबर 1949 को राजेंद्र प्रसाद को एक खत में लिखा था कि उन्होंने और सरदार पटेल ने फैसला किया है कि सी राजगोपालाचारी को भारत का पहला राष्ट्रपति बनाना सबसे सुरक्षित और श्रेष्ठ रहेगा।'
देना पड़ा स्पष्टीकरण
11 सितंबर को राजेंद्र प्रसाद ने साफ शब्दों में नेहरू को लिखा कि वह हमेशा पार्टी के साथ खड़े रहे हैं और उनसे बेहतर व्यवहार किया जाना चाहिए। यह खत मिलते ही नेहरू समझ गए कि उन्होंने बेईमानी की और वह पकड़े भी गए हैं। उन्होंने इस मामले में अपनी गलती मान लेना ही ठीक समझा। नेहरू स्थिति को काबू से बाहर भी नहीं जाने देना चाहते थे, इसलिए उन्होंने आधी रात में ही प्रसाद को खत लिखा। उन्होंने कहा था कि वह राजेंद्र प्रसाद का खत पढ़कर परेशान हो गए थे। लगता है कि उन्होंने (प्रसाद ने) मुझे और पटेल को भी गलत समझ लिया था। इसके बाद उन्होंने स्वीकार किया, जो मैंने लिखा, उसका वल्लभ भाई (पटेल) से कोई नाता नहीं है।
नीचे की स्लाइड्स में पढ़िए, झूठ पकड़ने के बाद भी नेहरू ने दिखाई चालाकी -

खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-

Next Story
Top