Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह बोलेः राष्ट्रीय जांच एजेंसी ने तोड़ी आतंकियों की कमर

केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने शुक्रवार को कहा कि राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) के प्रयासों की वजह से पहले की तुलना में आतंकवादी गतिविधियों के लिए धन मुहैया कराने और जाली भारतीय नोटों के प्रसार में कमी आई है।

केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह बोलेः राष्ट्रीय जांच एजेंसी ने तोड़ी आतंकियों की कमर

केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने शुक्रवार को कहा कि राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) के प्रयासों की वजह से पहले की तुलना में आतंकवादी गतिविधियों के लिए धन मुहैया कराने और जाली भारतीय नोटों के प्रसार में कमी आई है।

उन्होंने कहा कि सरकार ने आतंकवादी संगठन इस्लामिक स्टेट (आईएसआईएस) पर शोध प्रकोष्ठ शुरू करने के राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) के एक प्रस्ताव को मंजूरी दे दी है। मंत्री ने यह भी कहा कि प्रभावी जांच और निगरानी के लिए 100 नए पद सृजित किए गए हैं।

सिंह ने यहां कहा, आतंकवाद के लिए धन मुहैया कराना आतंकवादी गतिविधियों को प्रोत्साहन देने वाला बड़ा कारक है। जिस तरह से एनआईए ने अपनी भूमिका निभाई है, उसीका नतीजा है कि पहले की तुलना में आतंकवादी गतिविधियों के लिए धन मुहैया कराने में गिरावट आई है।

उन्होंने कहा कि एनआईए और अन्य एजेंसियों के प्रयासों की वजह से जाली भारतीय नोटों के प्रसार में भी कमी आई है। सिंह ने कहा, हमने एनआईए को आईएसआईएस पर एक शोध प्रकोष्ठ गठित करने की मंजूरी दे दी है।

उन्होंने कहा, एनआईए के मामलों में दोषसिद्धि की दर 92 फीसदी है। यह हमारे लिए गर्व का विषय है। उन्होंने कहा कि एनआईए राज्य पुलिस और विभिन्न राज्यों के आतंकवाद निरोधक दस्ते जैसी अन्य एजेंसियों के साथ तालमेल स्थापित करने में सफल रही है।

गुवाहाटी में एनआईए के दो नए कार्यालयों का किया उद्घाटन
गृह मंत्री यहां और गुवाहाटी में एनआईए के दो नए कार्यालय सह आवासीय परिसरों का उद्घाटन करने के बाद बोल रहे थे। इनका निर्माण एनबीसीसी इंडिया ने तकरीबन 77 करोड़ रुपए की लागत से किया है। हैदराबाद स्थित एनआईए परिसर 12 हजार 572 वर्ग फुट से अधिक क्षेत्र में फैला हुआ है।
इसका निर्माण तकरीबन 37 करोड़ रुपए की लागत से किया गया है और इसमें प्रशासनिक कार्यालय और कर्मचारियों के लिए आवासीय फ्लैट भी हैं। गुवाहाटी परियोजना की लागत तकरीबन 40 करोड़ रुपए है और इसका निर्माण 9830 वर्ग मीटर क्षेत्र में किया गया है।
Share it
Top