Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

कम बारिश से सूखे की आशंका, किसानों की बढ़ी चिंता

मौसम विभाग ने अल नीनो इफेक्ट की वजह से इस बार सामान्य से कम बारिश होने की भविष्यवाणी की है।

कम बारिश से सूखे की आशंका, किसानों की बढ़ी चिंता

कोच्चि.मौसम विभाग ने इस बार भी कम बारिश की भविष्यवाणी कर किसानों की चिंता बढ़ा दी हैं। पहले से ही मुश्किलों से जूझ रहे किसानों को इस बार मानसून से उम्मीद थी लेकिन मौसम विभाग का कहना है कि इस बार सामान्य से कम बारिश होगी। सूखे की आशंका को देखते हुए केंद्र सरकार ने राज्य सरकारों को इस समस्या से निपटने के लिए तैयारी में जुट जाने का निर्देश दिया है। केंद्र ने राज्य सरकारों को ग्रामीण क्षेत्रों में मनरेगा योजना के तहत काम शुरू करने का निर्देश जारी किया है।

74 प्रतिशत लोगों ने जताई मोदी सरकार के काम से संतुष्टिः इन्स्टा वाणी की रिपोर्ट

ग्रामीण विकास मंत्रालय की ओर से जारी एडवाइजरी में राज्य सरकारों को बारिश के पानी को प्रभावी ढंग से संचयन करने के लिए मनरेगा योजना के तहत काम शुरू करने को कहा गया है। गौरतलब है कि मौसम विभाग ने अल नीनो इफेक्ट की वजह से इस बार सामान्य से कम बारिश होने की भविष्यवाणी की है।

मील का पत्थर साबित होगी मेरी चीन यात्रा: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

मौसम विभाग के मुताबिक मानसून के केरल में समय पर पहुंचने की भविष्यवाणी की है। और केरल में एक जून तक मानसून के पहुंच जाने की संभावना है। ऐसे में बारिश के पानी के संचयन को लेकर झील,तालाब और नहरों की साफ सफाई और उन्हें ठीक कराने का काम मनरेगा योजना के तहत कराने का निर्देश जारी किया गया है।

खरीफ सीजन में सूखा और रबी सीजन में बेमौसम की बारिश के चलते खाद्यान्न उत्पादन में लगभग 1.4 करोड़ टन खाद्यान्न की पैदावार में कमी का अनुमान लगाया गया है। कृषि मंत्रालय के जारी ताजा आंकड़े के मुताबिक जहां चावल की पैदावार में एक करोड़ टन की कमी आएगी तो रबी सीजन की प्रमुख फसल गेहूं में 50 लाख टन की कमी का अंदेशा है। खाद्यान्न की इस कमी का असर खानपान की वस्तुओं की कीमतों पर पड़ सकता है। इससे महंगाई भड़क सकती है।

नीचे की स्लाइड्स में पढ़िए, पूरी खबर -

खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-

Next Story
Top