Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

नासा की मदद से जापान के वैज्ञानिकों ने खोजे 15 नए ग्रह, एक ग्रह पर मिलेगा पानी!

टोक्यो इंस्टीच्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी के वैज्ञानिकों ने नासा के सहयोग से की 15 नए ग्रहों की खोज की है।

नासा की मदद से जापान के वैज्ञानिकों ने खोजे 15 नए ग्रह, एक ग्रह पर मिलेगा पानी!
X

जापान के वैज्ञानिकों ने 15 नए ग्रहों की खोज की है। इनमें से एक सुपर अर्थ पर पानी भी मौजूद हो सकता है। सौर मंडल के बाहर खोजे गए ये एक्सोप्लैनेट लाल रंग के बौने तारों का चक्कर लगा रहे हैं।

लाल तारे आकार में अपेक्षाकृत छोटे और ठंडे होते हैं। जापान स्थित टोक्यो इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी के वैज्ञानिकों ने इस शोध के लिए नासा के कैपलर अंतरिक्ष यान के दूसरे मिशन ‘के-2’, हवाई स्थित सुबारु टेलीस्कोप और स्पेन स्थित नॉरडिक ऑप्टिकल टेलीस्कोप से जुटाए गए आंकड़ों का अध्ययन किया था।

शोधकर्ता टेरुयुकी हिरानो ने कहा कि लाल तारों के अध्ययन से भविष्य में एक्सोप्लैनेट से जुड़ी रोचक जानकारियां मिल सकती हैं। इनके अध्ययन से ग्रहों के विकास संबंधी कई रहस्य उजागर हो सकते हैं।

यह भी पढ़ेंः भारत ने मॉरीशस के लिए 10 करोड़ डॉलर की ऋण सुविधा की घोषणा की

इस शोध में 3 ऐसे ग्रह खोजे गए थे जिन्हें सुपर अर्थ कहा जा रहा है। ये ग्रह पृथ्वी से 200 प्रकाश वर्ष दूर स्थित के-2-155 तारे का चक्कर लगा रहे हैं। ये तीनों पृथ्वी से आकार में बड़े हैं।

वैज्ञानिकों का कहना है कि इस तारे का चक्कर लगा रहे सबसे बाहरी ग्रह के-2-155 डी पर पानी हो सकता है। इसकी पुष्टि के लिए के-2-155 के आकार और तापमान का सटीक अनुमान लगाना होगा।

इस खोज के बीच अमरीकी अंतरिक्ष एजैंसी नासा अप्रैल में ट्रांजिटिंग एक्सोप्लैनेट सर्वे सैटेलाइट (टी.ई.एस.एस.) लांच करने जा रही है। इस अभियान के तहत और ज्यादा एक्सोप्लैनेट का पता लगाया जाना है।

और पढ़े: Haryana News | Chhattisgarh News | MP News | Aaj Ka Rashifal | Jokes | Haryana Video News | Haryana News App

Next Story