Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

वाराणसी में पीएम मोदी ने इन 18 योजनाओं का किया शुभारंभ, जानिए क्या होगा फायदा

पीएम मोदी ने बड़ा लालपुर के मंच से महामना एक्सप्रेस को हरी झंडी दिखा कर वाराणसी से रवाना किया।

वाराणसी में पीएम मोदी ने इन 18 योजनाओं का किया शुभारंभ, जानिए क्या होगा फायदा

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने वाराणसी के अपने दो दिवसीय दौरे की शुरुआत करते हुए जहां नमामि गंगे की एसटीपी परियोजना की आधारशिला रखी, वहीं उन्होंने वाराणसी से बडोदरा के बीच चलने वाली महामना एक्सप्रेस को हरी झंडी दिखा कर रवाना किया।

उत्तर प्रदेश में अपने संसदीय क्षेत्र वाराणसी के दो दिन के दौरे पर शुक्रवार को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी तीन बजे वाराणसी गये प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी वाराणसी एयरपोर्ट पहुंचे। एयरपोर्ट पर राज्यपाल रामनाईक, सीएम योगी आदित्यनाथ समेत कई भाजपा नेताओं ने मोदी का स्वागत किया।

एयरपोर्ट से पीएम मोदी हैलिकॉप्टर से बड़ा लालपुर स्थित ट्रेड फेसिलिटेशन सेंटर पहुंचे। जहां उन्होंने इस सेंटर का उद्घाटन किया। अपने दौरे की शुरूआत मोदी ने बड़ा लालपुर के मंच से महामना एक्सप्रेस को हरी झंडी दिखा कर वाराणसी से रवाना किया, जो वाराणसी से बडोदरा के बीच सप्ताह में एक दिन चलाई जाएगी।

नमामि गंगे की परियोजना का शिलान्यास

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने शुक्रवार को ही नमामि गंगे मिशन के तहत वाराणसी में वाराणसी के रमना में 50 एमएलडी क्षमता के 153.16 करोड़ की लागत वाले सीवेज परिशोधन संयंत्र (एसटीपी) की आधारशिला भी रखी। यह संयंत्र हाइब्रिड एन्यूटी-मॉडल पर आधारित है। सीवेज क्षेत्र में पहली बार हाइब्रिड एन्यूटी मॉडल का उपयोग किया जा रहा है।

नमामि गंगे मिशन के तहत पहले ही मंजूरी हो चुकी 153.16 करोड़ रुपये की लागत वाले इस संयंत्र के निर्माण, परिचालन व रख-रखाव का कार्य की परियोजना को एक कॉन्सोर्टियम को दिया गया है जिसकी अगुवायी एस्सेल इन्फ्रा प्रोजेक्ट्स लिमिटेड नामक कम्पनी कर रही है। वाराणसी में नमामि गंगे कार्यक्रम के तहत निर्मल गंगा के लक्ष्य को हासिल करने के लिए यह एक बड़ा कदम होगा।

जल संसाधन मंत्रालय के अनुसार केंद्र सरकार द्वारा अनुमोदित हाइब्रिड एन्यूटी मॉडल के तहत केन्द्र सरकार इस परियोजना का 100 प्रतिशत खर्च वहन करेगी। इस मॉडल के तहत एसटीपी का विकास, परिचालन और रख-रखाव स्थानीय स्तर पर बनाई गई एक स्पेशल पर्पज विह्कल (एसपीवी) करेगी।

इस मॉडल के अनुसार लागत की 40 प्रतिशत राशि का भुगतान निर्माण के दौरान किया जाएगा और शेष 60 प्रतिशत राशि का भुगतान अगले 15 वर्षों के दौरान वार्षिक तौर पर किया जाएगा जिसमें परिचालन और रख-रखाव (ओ एंड एम) का खर्च भी शामिल होगा।

इन परियोजनाओं का लोकार्पण

इसके अलावा प्रधानमंत्री मोदी अपने वाराणसी दौरे पर उत्तर प्रदेश को जिन परियोजनाओं सौगात देंगे, उनमें 18 परियोजनाओं को पूरा किया जा चुका है और उनका वे लोकार्पण करेंगे।

-वाराणसी में 16.20 करोड़ रुपये लागत वाली परियोजना आईपीडीएस के तहत 33/11 केवी कज्जाकपुरा उपकेंद्र और विभिन्न उपकेंद्रों में आठ ट्रांसफार्मरों का क्षमता वृद्धि।

-पं. दीनदयाल उपाध्याय ज्योति ग्राम योजना के तहत सात करोड़ की लागत से तैयार गरथौली में 33/11 केवी उपकेंद्र।

- 97 करोड़ के सामनेघाट पुल और 92 करोड़ रुपये के तैयार बलुआ पुल।

- 15 करोड़ की लागत वाले बीएचयू में मालवीय एथिक्स सेंटर।

- दो करोड़ के पहड़िया में वेस्ट टू एनर्जी प्लांट।

-2.58 करोड़ के दुर्गाकुंड और 1.80 करोड़ के लक्ष्मीकुंड का सुंदरीकरण।

-2.77 करोड़ की लागत वाले सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र अराजीलाइन में 30 बेड का मैटर्निटी विंग।

- सवा करोड़ रुपये की परियोजना के तहत चोलापुर थाने में 80 लोगों के लिए बैरक निर्माण।

-2.56 करोड़ के सारनाथ में बुद्धा थीम पार्क।

-2.02 करोड़ के सारंगनाथ तालाब ,सारनाथ तालाब और 82 लाख के गुरुधाम मंदिर का सुंदरीकरण।

-3.03 करोड के कैथी में मारकण्डेय महादेव मंदिर और गंगा घाट का विकास के अलावा राजकीय पशुधन एवं कृषि परिक्षेत्र अराजीलाइन्स का सुदृढ़ीकरण तथा उत्कर्ष बैंक मुख्यालय का उद्घाटन भी पीएम मोदी करेंगे।

दस परियोजनाओं का शिलान्यास

-162 करोड़ की लागत वाले नगर निगम क्षेत्र के अंतर्गत 52260 घरों में सीवर कनेक्शन।

-दो करोड के अमृत के तहत नगर में सात पार्कों का सुंदरीकरण।

-29.70 करोड़ के नगर निगम क्षेत्र में 50028 घरों में जल संयोजन का कार्य।

-तेरह करोड की लागत से बनने वाला अन्न क्षेत्र काशी विश्वनाथ मंदिर।

-पं. दीनदयाल उपाध्याय राजकीय अस्पताल पांडेयपुर परिसर में 50 बेड महिला अस्पताल के लिए भवन।

-पं. दीनदयाल उपाध्याय राजकीय अस्पताल और शिव प्रसाद गुप्त मंडलीय जिला अस्पताल का उच्चीकरण।

-सर सुंदरलाल अस्पताल बीएचयू परिसर में 100 शैयायुक्त एमसीएच विंग के लिए भवन।

-लाल बहादुर शास्त्री अस्पताल रामनगर का उच्चीकरण।

Next Story
Top