Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

मुसलमानों का मोदी पर बढ़ रहा भरोसा, मुस्लिमों के बीच केंद्र सरकार की छवि में सुधार का दावा

नरेन्द्र मोदी को लेकर मुस्लिम समाज के बीच जो भी हिचक रही है, केंद्र की सत्ता में उनके आने के लगभग एक साल पूरे होते-होते वह टूटने लगी है।

मुसलमानों का मोदी पर बढ़ रहा भरोसा, मुस्लिमों के बीच केंद्र सरकार की छवि में सुधार का दावा

नई दिल्ली. प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को लेकर मुस्लिम समाज के बीच जो भी हिचक रही है, केंद्र की सत्ता में उनके आने के लगभग एक साल पूरे होते-होते वह टूटने लगी है। आम मुस्लिम अब उनसे नाता जोड़ने में दिलचस्पी ले रहा है। इसके पीछे मोदी सरकार द्वारा मुस्लिमों में शिक्षा व तरक्की की उम्मीद की किरण जगाना माना जा रहा है।

सांसद योगी आदित्यनाथ, साध्वी निरंजन ज्योति, साक्षी महाराज व केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह के बड़बोले बयान मुस्लिम समुदाय की पेशानी पर शिकन का सबब तो बनते हैं किंतु, तकरीबन साल भर के कार्यकाल में मोदी ने अल्पसंख्यकों के इस बड़े तबके के प्रति जो भावनाएं जाहिर की है वह मुस्लिम समाज के लिए सुकून भरा है। हैदराबाद स्थित मौलाना आजाद नेशनल ऊदरू विश्वविद्यालय के वाइस चांसलर जफर सरेसवाला ने कहा कि मुसलमानों में जो सियासी तबका है सिर्फ वही नहीं चाहता कि बिरादरी मोदी से सरोकार कायम करे। सरेसवाला का नाम मोदी के करीबी और खासमखास लोगों में शुमार हैं। किंतु, उनकी इस बात का जमीयत-उलमा-ए-हिंद के राष्ट्रीय सचिव व प्रवक्ता अब्दुल हमीद नोमानी भी सर्मथन करते हैं।
नोमानी का कहना है कि 26 मई 2014 को प्रधानमंत्री पद की शपथ लेने के बाद से मोदी ने न ऐसा कोई बयान दिया जो मुस्लिम समाज को ठेस पहुंचाएं और न ही ऐसा कोई कदम उठाया जो इस समुदाय के खिलाफ हो। मोदी के मंत्री, भाजपा नेता अपने बयानों से मोदी की छवि को बिगाड़ने की कोशिश कर रहे हैं। सरेसवाला का तर्क है कि, ये अफवाहें खूब फैलाई गईं कि मोदी के सत्ता में आने पर हज कमेटी, अल्पसंख्यक मंत्रालय बंद कर दिए जाएंगे। इसके उलट मोदी ने एक टीम सऊदी अरब भेजकर हाजियों की सुविधा के लिए बेहतर इंतजाम के लिए कदम उठाया। अल्पसंख्यक मंत्रालय के लिए पहले से 10 प्रतिशत ज्यादा बजट का आवंटन किया। जकात फाउंडेशन ऑफ इंडिया के राष्ट्रीय अध्यक्ष डा. सैय्यद जफर महमूद के मुताबिक, प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने जमीनी स्तर पर तो ऐसा कुछ नहीं किया जिससे कि मुस्लिम समाज में उनकी यकायक स्वीकार्यता बढ़े।
नीचे की स्लाइड्स में पढ़िए, पूरी खबर -
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Next Story
hari bhoomi
Share it
Top