Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

नायड्र के गहलोत, कमलनाथ और बघेल के शपथ ग्रहण समारोह में शामिल होने की संभावना

आंध्रप्रदेश के मुख्यमंत्री एन. चंद्रबाबू नायडू के अशोक गहलोत, कमलनाथ और भूपेश बघेल के सोमवार को होने वाले शपथ ग्रहण समारोहों में शामिल होने की संभावना है जो क्रमश: राजस्थान, मध्यप्रदेश और छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्रियों के तौर पर शपथ लेने वाले हैं। सूत्रों ने यह जानकारी दी।

नायड्र के गहलोत, कमलनाथ और बघेल के शपथ ग्रहण समारोह में शामिल होने की संभावना

आंध्रप्रदेश के मुख्यमंत्री एन. चंद्रबाबू नायडू के अशोक गहलोत, कमलनाथ और भूपेश बघेल के सोमवार को होने वाले शपथ ग्रहण समारोहों में शामिल होने की संभावना है जो क्रमश: राजस्थान, मध्यप्रदेश और छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्रियों के तौर पर शपथ लेने वाले हैं। सूत्रों ने यह जानकारी दी।

गहलोत ने जयपुर में होने वाले समारोह के लिए नायडू को न्यौता भेजा है। गहलोत के साथ कांग्रेस नेता सचिन पायलट राजस्थान के उपमुख्यमंत्री पद की शपथ लेगें।
गहलोत ने नायडू को लिखे एक पत्र में कहा, ‘‘हाल में सम्पन्न विधानसभा चुनाव न केवल कांग्रेस पार्टी के लिए एक जीत है बल्कि यह प्रगतिशील राजनीति की भी जीत है...।'
उन्होंने कहा, ‘‘हमारी पार्टियां उन लोगों को हराने के लिए संयुक्त संघर्ष में भागीदार रही हैं जिन्होंने हमारे लोकतंत्र को कमजोर करने के लिए कसर नहीं छोड़ी है।'
सूत्रों के अनुसार कमलनाथ ने भी नायडू से फोन करके उन्हें भोपाल में सोमवार को होने वाले समारोह के लिए आमंत्रित किया है। उन्होंने बताया कि नायड्र ने इन दोनों नेताओं का निमंत्रण स्वीकार कर लिया है।
पार्टी सूत्रों ने दावा किया कि नायडू, भूपेश बघेल के शपथ ग्रहण समारोह में भी शामिल होंगे । बघेल छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री के तौर पर शपथ लेने वाले हैं। सूत्रों के अनुसार कांग्रेस ने कई अन्य दलों के नेताओं को भी आमंत्रित किया है और उम्मीद की जा रही है कि यह विपक्षी दलों के नेताओं की एकता का प्रदर्शन होगा जैसा कि इस साल कर्नाटक के मुख्यमंत्री एच डी कुमारस्वामी के शपथ ग्रहण समारोह के समय हुआ था।
गौरतलब है कि 11 दिसम्बर को कांग्रेस ने राजस्थान की 199 में से 99 सीटें हासिल की थी और सबसे बड़ी पार्टी के तौर पर उभरी थी। राज्य विधानसभा में 200 सीटें हैं लेकिन एक सीट पर प्रत्याशी के निधन के बाद चुनाव स्थगित कर दिया गया था।
मध्यप्रदेश में कांग्रेस ने विधानसभा चुनाव में 114 सीटें जीतीं लेकिन बहुमत के लिए 116 का आंकड़े तक नहीं पहुंच सकी। यद्यपि बहुजन समाज पार्टी और समाजवादी पार्टी ने कांग्रेस को अपना समर्थन दिया है। कांग्रेस छत्तीसगढ़ में 15 वर्ष बाद दो तिहायी बहुमत से सत्ता में आयी है।
Share it
Top