Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

मैसूर को मिला नया राजा, यदुवीर वडियार का किया गया राजतिलक - PICS

यदुवीर का कहना है कि उन्हें अपने क्षेत्र के पर्यटन का विकास करने में रुचि हैं।

मैसूर को मिला नया राजा, यदुवीर वडियार का किया गया राजतिलक - PICS
मैसूर. मैसूर राजघराने और वहां के लोगों दोनों के लिए गुरूवार का दिन बेहद खास है। आज नए राजा यदुवीर वडियार का राजतिलक हुआ। 23 वर्षीय यदुवीर अमेरिका में पढ़ाई करके लौटे हैं। यह एक निजी समारोह था जिसमें राजपरिवार के सदस्यों के साथ-साथ पुरोहित और महल से जुड़े कर्मचारी ही शरीक हुए। जानकारी के मुताबिक इस शाही परिवार में करीब 1200 लोग शामिल हैं।
मैसूर कर्नाटक, केरल और तमिलनाडु के बाद चौथा ऐसा राज्य है जहां राजा बनाने की परंपरा जारी है। वाडियार राजघराने का इतिहास 1399 से चला आ रहा है। तब राजघराने ने मैसूर पर राज करना शुरू किया था। तब से अब तक राजा की घोषणा होती आई है। राजा बनते ही यदुवीर कृष्णदात्ता चामराजा वाडियार कहलाने लगेंगे।
पिछली बार 1974 में राजतिलक हुआ था। तब यदुवीर के चाचा श्रीकांतदत्ता नरसिम्हाराजा वाडियार को गद्दी पर बैठाया गया था। 2013 में उनका निधन हो गया था। तब से राजा का पद खाली था। श्रीकांतादत्ता नरसिम्हा राजा वाडियार और रानी गायत्री देवी को संतान नहीं है।
यदुवीर का कहना है कि उन्हें अपने क्षेत्र के पर्यटन का विकास करने में रुचि हैं। शाम को मैसूर में एक शाही जुलूस निकालने की राज परिवार की योजना है। यानी इस साल मैसूर दशहरा की अगुवाई यदुवीर करेंगे और साथ-साथ कर्नाटक सरकार के साथ लंबे समय से चल रहे राजपरिवार की संपत्ति विवाद की कानूनी लड़ाई भी उनकी ही देख रेख में होगी। यदुवीर मैसूर राजघराने के दिवंगत वारिस श्रीकांतादत्ता नरसिम्हा राजा वाडियार की बड़ी बहन गायत्री देवी के पोते हैं।

नीचे की स्लाइड्स में पढ़िए, यदुवीर किसी राजा की संतान नहीं हैं -

खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-

Next Story
Share it
Top