Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

काली पट्टी बांधकर ईद की नमाज पढ़ेंगे मुसलमान

मुसलमान हिंसा की घटनाओं के विरोध में लोकतांत्रिक तरीके से नाराजगी जताएंगे।

काली पट्टी बांधकर ईद की नमाज पढ़ेंगे मुसलमान

लखनऊ में भीड़ द्वारा पीट-पीटकर हत्या किए जाने की हाल की घटनाओं के विरोध में विभिन्न संगठनों तथा सामाजिक कार्यकर्ताओं ने काली पट्टी बांधकर ईद की नमाज पढ़ने का आह्वान किया है।

सोशल मीडिया पर चलाए जा रहे अभियान में चिंता व्यक्त की जा रही है कि हिंदुस्तान का लोकतंत्र- भीड़तंत्र की ओर बढ़ रहा है। इसे रोकने के लिए हमें लोकतंत्र के ही तरीके से विरोध करना है।

बीते गुरुवार को हरियाणा में ईद की खरीदारी करने ट्रेन से जा रहे एक युवक की पीट-पीटकर हत्या, उसी दिन पश्चिम बंगाल में कथित रूप से गाय की चोरी के आरोप में तीन लोगों की हत्या, जम्मू-कश्मीर में पुलिस अफसर अयूब पंडित की हत्या,

इससे पहले राजस्थान के अलवर में भीड़ द्वारा पहलू खां की हत्या, दादरी में अखलाक हत्या काण्ड ऐसी घटनाएं हैं जिनमें भीड़ ने बिना सच्चाई जाने हमला किया। लिहाजा मुसलमानों से ईद पर काली पट्टी बांधकर नमाज पढ़ने की अपील की गई है।

सभी इमामों को किया फोन

माइनारिटी एजुकेशन एण्ड इम्पॉवरमेंट मिशन (मीम) के उत्तर प्रदेश सचिव अब्दुल हन्नान ने रविवार को बताया कि उनके संगठन ने देश की तमाम मस्जिदों के इमामों को फोन करके कहा है कि वे मुसलमानों से ईद की नमाज पढ़ते वक्त बाजू पर काली पट्टी बांधने को कहें।

उन्होंने दावा किया कि इस मुहिम में लखनऊ स्थित प्रमुख इस्लामी शिक्षण संस्थान नदवतुल उलमा ने भी सहयोग का आश्वासन दिया है। हन्नान ने बताया कि उनके संगठन से जुड़े लोग इस संदेश को दूर-दूर तक फैला रहे हैं। कोशिश है कि इस विरोध को बड़े पैमाने पर सरकार के पास पहुंचाया जाए, ताकि भीड़ के हाथों मौतों का सिलसिला रोका जा सके।

सोशल मीडिया का लिया सहारा

इस सिलसिले में फेसबुक पर अभियान चला रहे शायर इमरान प्रतापगढ़ी ने कहा कि हमने युवाओं से अपील की है कि वे इन घटनाओं के विरोध में काली पट्टी बांधकर ईद की नमाज पढ़ें और अपनी तस्वीर खींचकर फेसबुक पर अपलोड करें।

इमरान ने कहा, ‘‘ ईद अल्लाह का तोहफा है ,हम लोकतांत्रिक तरीके से विरोध करेंगे। हम कोई धरना-प्रदर्शन नहीं करेंगे। हम सिर्फ नमाज के दौरान विरोध करेंगे। अगर अब इन घटनाओं का विरोध नहीं किया गया तो कल हम भी भीड़ का शिकार बन सकते हैं। '

दुनियाभर में हो रहा असर

‘यश भारती' से सम्मानित किये जा चुके इमरान ने कहा कि सोशल मीडिया के जरिये दुनिया में फैल चुके आह्वान का असर है कि आज सऊदी अरब में सैकड़ों लोगों ने काली पट्टी बांधकर नमाज पढ़ी है। फेसबुक और ट्विटर पर पड़ी तस्वीरें इसकी गवाह हैं। यह हिन्दुस्तान की तहजीब और टूटते समाज को बचाने की छोटी सी कोशिश है।

Next Story
Top