Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

सामाजिक ताने-बाने को प्रभावित करती हैं हत्या और हिंसा- उपराष्ट्रपति नायडू

उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू ने राजनीतिक हत्याओं की आज निंदा की और लोगों से हिंसा की शक्तियों को अलग-थलग करने का आह्वान किया।

सामाजिक ताने-बाने को प्रभावित करती हैं हत्या और हिंसा- उपराष्ट्रपति नायडू

उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू ने राजनीतिक हत्याओं की आज निंदा की और लोगों से हिंसा की शक्तियों को अलग-थलग करने का आह्वान किया।

उन्होंने केरल में भाजपा के वरिष्ठ नेता पी एस श्रीधरण पिल्लै की 100 वीं पुस्तक को जारी करने के मौके पर कहा, ‘‘शांति के बगैर प्रगति नहीं हो सकती। मैं केरल के लोगों से हिंसा की शक्तियों को अलग-थलग करने की अपील करता हूं।'

ये भी पढ़ें- पीएनबी के बाद सिटी यूनियन बैंक में भी धोखाधड़ी

उपराष्ट्रपति का बयान युवा कांग्रेस के नेता सुहैब की हत्या की पृष्ठभूमि में काफी अहम है। राजनीतिक रुप से संवेदनशील कन्नूर में 13 फरवरी को माकपा कार्यकर्ताओं ने कथित रुप से सुहैल को मार डाला था।

नायडू ने कहा, ‘‘हत्या और हिंसा सामाजिक ताने-बाने को प्रभावित करती हैं। वे ध्यान बंटाएंगी। मैं केरल से हिंसा को अलग-थलग करने का अनुरोध करता हूं।' उन्होंने कहा, ‘‘यदि तनाव होगा तो विकास की ओर ध्यान नहीं जाएगा।'

उपराष्ट्रपति ने लोगों से बुलेट की जगह मतपत्र की ताकत का इस्तेमाल करने का आह्वान किया।
उन्होंने कहा, ‘‘भले ही हम भाषा, धर्म, क्षेत्र और देवी-देवताओं को पूजने में एक दूसरे से अलग हों लेकिन भारत एक है और हमें भारतीय होने पर गर्व है।'
उन्होंने कहा कि भारत में धर्मनिरपेक्षता नेताओं की वजह से सुरक्षित है ऐसा नहीं है, बल्कि यह लोगों के दिलोदिमाग में पहले से है।
Next Story
Top