Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

मुंबई भगदड़: पियूष गोयल ने की रेलवे बोर्ड की मीटिंग, शिवसेना ने मांगा रेल मंत्री का इस्तीफा

मुंबई एल्फिंस्टन स्टेशन के पास फुटओवर ब्रिज पर मची भगदड़ में 22 लोगों की मौत हो गई।

मुंबई भगदड़: पियूष गोयल ने की रेलवे बोर्ड की मीटिंग, शिवसेना ने मांगा रेल मंत्री का इस्तीफा

भारी वर्षा के बीच मुंबई में एल्फिंस्टन रोड और परेल उपनगरीय रेलवे स्टेशनों को जोड़ने वाले फुटओवर ब्रिज पर शुक्रवार को मची भगदड़ में कम से कम 22 लोग मारे गए हैं। आज हादसे के बाद रेल मंत्री पियूष गोयल आज शनिवार को रेलवे बोर्ड के साथ बैठक की, वहीँ राज ठाकरे भी इस हादसे को लेकर प्रेस कॉन्फ्रेंस की।

हादसे में 39 से ज्यादा लोग घायल हुए हैं। पुलिस के अनुसार, यह हादसा सुबह करीब दस बजकर चालीस मिनट पर हुआ। उस वक्त बारिश हो रही थी और फुटओवर ब्रिज पर खासी भीड़ थी। सोशल मीडिया पर तमाम तस्वीरें चल रही हैं जिनमें लोग सीढ़ियों, और दशकों पुराने इस संकरे पुल पर फंसे हुए दिख रहे हैं।

इसे भी पढ़ें: मुंबई में एलफिंस्टन रेलवे स्टेशन पर भगदड़, 22 की मौत, 39 से ज्यादा घायल

हादसे के कई वीडियो भी हैं जिनमें लोग अपनी जान बचाने का हर जतन कर रहे हैं। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, उपराष्ट्रपति एम. वेंकैया नायडू, प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी सहित सभी दलों के नेताओं और अन्य क्षेत्रों के लोगों ने हादसे में मारे गए लोगों के प्रति संवेदनाएं व्यक्त की हैं।

रेलवे सुरक्षा बल (आरपीएफ) के महानिरीक्षक अतुल श्रीवास्तव ने कहा, एल्फिंस्टन स्टेशन के फुट ओवर ब्रिज पर बहुत भीड़ थी और बारिश के कारण वहां फिसलन भी हो गयी थी। इससे अफरा-तफरी मच गयी और परिणाम स्वरूप भगदड़ मच गई।

इसे भी पढ़ें: मुंबई भगदड़ मामले में जांच के आदेश, पीएम और राष्ट्रपति ने जताया शोक

रेलवे के प्रवक्ता अनिल सक्सेना ने कहा, अचानक बारिश होने के कारण, लोग स्टेशन पर इंतजार कर रहे थे। जब बारिश रूकी तो, लोग जल्दी वहां से निकलने लगे जिससे अफरा-तफरी मच गई। पुलिस को संदेह है कि फुटओवर ब्रिज के पास तेज आवाज के साथ हुए शॉट सर्किट के कारण लोगों में दहशत फैल गयी और वह भागने लगे।

इसी कारण भगदड़ मच गयी। बृहन्मुंबई महानगरपालिका के आपदा प्रबंधन प्रकोष्ठ के प्रमुख महेश नारवेकर ने कहा कि मरने वालों में आठ महिलाएं और एक किशोर शामिल हैं।

घायलों में से पांच की हालत गंभीर बतायी जा रही है। सुबह ही मुंबई पहुंचे रेल मंत्री पीयूष गोयल ने मुंबई में 100 अतिरिक्त उपनगरीय सेवाओं का उद्घाटन कार्यक्रम रद्द कर दिया और हादसे के उच्चस्तरीय जांच के आदेश दिए हैं।

क्या थी प्रमुख वजह

ब्रिज के एक हिस्से के गिरने की बात पता चला और लोग ब्रिज से छलांग लगाने लगे

ब्रिज से चिंगारी निकलते देखी और आग लगने की बात कहते हुए भागने लगे।

बारिश से बचने के लिए ज्यादातर लोग ब्रिज पर चढ़े हुए थे।

जैसे ही ट्रेन आई तो लोग फिसले, जिसके बाद पीछे वाले भी गिरते चले गए।

दमे के अटैक से मुसाफिर के गिरने की अफवाह के बाद भगदड़।

ब्रिज पर ज्यादा संख्या में लोगों के पहुंचने से भगदड़ मची।

10-10 लाख मुआवजा

रेल मंत्री पीयूष गोयल ने कहा कि भगदड़ में मारे गए लोगों के परिजन को 10-10 लाख रुपए का मुआवजा दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि रेल मंत्रालय के साथ ही महाराष्ट्र सरकार प्रत्येक मृतक के परिजन को अनुग्रह राशि के तौर पर पांच-पांच लाख रुपए देगी।

104 साल पुराना ब्रिज

एलफिन्स्टन ब्रिज 104 साल पुराना था। 1911 में लॉर्ड एलफिन्स्टन के नाम पर स्टेशन बनाया गया था। इसके दो साल बाद ब्रिज बनाया गया। लॉर्ड एलफिन्स्टन 1853 से 1860 तक बॉम्बे के गवर्नर रहे थे। यह ब्रिज काफी संकरा है। वक्त के साथ भीड़ बढ़ती गई और ब्रिज पर लोड बढ़ता गया।

राष्ट्रपति-पीएम ने दुख जताया

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, उपराष्ट्रपति एम. वेंकैया नायडू, प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने हादसे में मारे गए लोगों के प्रति संवेदनाएं व्यक्त की हैं। पीएम ने ट्वीट में लिखा, मेरी प्रार्थनाएं घायलों के साथ हैं। मुंबई में हालात पर लगातार नजर रखी जा रही है।

शिवसेना ने कहा, नरसंहार

शिवसेना के सांसद संजय राउत ने कहा, यह नरसंहार है। शिवसेना ने कहा है कि उसके सांसदों ने रेल मंत्रालय को पत्र लिख ब्रिज को चौड़ा करने की मांग की थी, लेकिन तत्कालीन रेल मंत्री सुरेश प्रभु ने वैश्विक मंदी का हवाला दिया था। शिवसेना नेता संजय राउत ने केंद्र सरकार पर 'मानव वध' का मुकदमा चलाने की मांग की है।

Next Story
Top