Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

YouTube पर लाइक्स के लिए लड़कों ने लोको पायलट से पूछा ये सवाल, पहुंचे जेल

एक विडियो में एक आरोपी ट्रेन के ड्राइवर से पूछता है, ''अंकल मुझे ट्रेन चलाने दो, मैंने अपने भाई के टॉय ट्रेन से ड्राइव करना सीखा है।'' एक अन्य आरोपी ड्राइवर से पूछता है, ''अंकल मैं ट्रेन गोवा ले जाऊं।''

YouTube पर लाइक्स के लिए लड़कों ने लोको पायलट से पूछा ये सवाल, पहुंचे जेल

ट्रेन में यात्रियों और मोटरमैन से शरारत करके विडियो बनाने वाले और उसे यूट्यूब पर अपलोड करने वाले तीन युवकों को मुंबई पुलिस ने गिरफ्तार किया। हालांकि, बाद में तीनों युवकों को जमानत मिल गई। इन युवकों को आगे से ट्रेन और आसपास शरारत न करने की हिदायत भी दी गई है। ये लोग ट्रेन के ड्राइवरों से अजीबोगरीब सवाल करते थे।

एक विडियो में एक आरोपी ट्रेन के ड्राइवर से पूछता है, 'अंकल मुझे ट्रेन चलाने दो, मैंने अपने भाई के टॉय ट्रेन से ड्राइव करना सीखा है।' एक अन्य आरोपी ड्राइवर से पूछता है, 'अंकल मैं ट्रेन गोवा ले जाऊं।' इस पर मोटरमैन हंसने लगता है। एक अन्य सीन में आरोपी मोटरमैन से ऐसी ही फरमाइश करता है तो जवाब मिलता है, 'मम्मी डैडी को ले के आ, सब जाएंगे।'

इसे भी पढ़ें- झारखंड को मिलेगी 27000 करोड़ की सौगात, 25 मई को पीएम मोदी करेंगे शिलान्यास

लाइक के लिए करते थे शरारत

रेलवे प्रॉटेक्शन फोर्स (आरपीएफ) के अधिकारियों ने बताया कि विखरोली के रहने वाले अभिषेक कुनिइल (23), राहुल गोडसे (19) और शुभम शुक्ला (19) पर रेलवे एक्ट 145 (बी), 146 और 147 धाराओं में कार्रवाई की गई।

तीनों युवक सार्वजनिक स्थलों पर शरारत करके उसका विडियो बनाते थे। उस विडियो को वे यूट्यूब और सोशल मीडिया में अपलोड करते थे। उनके इन विडियो को सैकड़ों लाइक्स भी मिलते थे।

इसे भी पढ़ें- लगातार हार से कांग्रेस में फंड का टोटा, AICC ने प्रदेश कमेटी के ऑफिस का खर्चा पानी बंद किया

स्पॉन्सर से मिलते थे रुपए

इंजिनियरिंग कर रहे अभिषेक ने बताया कि उसे इस तरह के विडियो बनाने का आइडिया अपने कॉलेज के एक सीनियर से आया। वह इस तरह के विडियो बनाकर यूट्यूब में अपलोड करते थे, उनके विडियो के स्पॉन्सर होते हैं। वे लोग भी रुपये कमाना चाहते थे, इसलिए उन्होंने भी विडियो बनाकर यूट्यूब में अपलोड करने का फैसला लिया।

उन लोगों ने टीम ब्लेड नाम का अपना एक ग्रुप बनाया। वे लोग सार्वजनिक स्थलों पर शरारत करते और उसका विडियो बनाकर अपलोड करते थे। शिकायत के बाद जब आरपीएफ ने जांच की तो पता चला कि युवक अधिकांश विडियो चर्चगेट और सीएसटी स्टेशन पर बनाते हैं। वे यहां लोगों से फिजूल के सवाल पूछकर उन्हें चिढ़ाते हैं।

Next Story
Top