logo
Breaking

मुंबई कमला मिल्स: पब में आग लगने से 14 लोगों की मौत, जानिए पूरा मामला

मुंबई के एक पॉश इलाके में एक परिसर की छत पर स्थित पब में बीती रात चल रहा जन्मदिन का जश्न करीब दर्जन भर परिवारों के लिए मातम में बदल गया।

मुंबई कमला मिल्स: पब में आग लगने से 14 लोगों की मौत, जानिए पूरा मामला

मुंबई के एक पॉश इलाके में एक परिसर की छत पर स्थित पब में बीती रात चल रहा जन्मदिन का जश्न करीब दर्जन भर परिवारों के लिए मातम में बदल गया।

अपना 29 वां जन्मदिन मना रही एक महिला सहित 14 लोगों की मौत हो गई और 35 अन्य घायल हो गए। मरने वालों में 11 महिलाएं और 3 पुरुष शामिल हैं। ज्यादातर महिलाओं की लाश वॉशरूम से बरामद हुई है।

आग लगने की घटना पर कार्रवाई करते हुए बृहन्मुंबई महानगरपालिका (बीएमसी) ने अपने 5 अधिकारियों को निलंबित कर दिया है। बीएमसी आयुक्त अजय मेहता ने बताया, हमने आग लगने के हादसे के सिलसिले में पांच अधिकारियों को निलंबित कर दिया है।

यह भी पढ़ें- ये हैं साल 2017 के वो मुद्दे, जिन्होंने हिला कर रख दी थी देश की नींव

निलंबित किए गए अधिकारी दमकल सेवा और जी साउथ वार्ड से जुड़े हुए थे। इस बीच, मुंबई के मेयर विश्वनाथ महादेश्वर ने कहा कि एक जांच का आदेश दिया गया है। दोषी अधिकारियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।

बृहन्मुंबई महानगरपालिका के अधिकारियों ने बताया कि देर रात करीब साढ़े बारह बजे छत पर स्थित ‘1 एबव' पब में आग लगी। जल्द ही इसके नीचे तीसरी मंजिल पर स्थित ‘मोजो पब' भी इसकी चपेट में आ गया।

केईएम अस्पताल के डीन अविनाश सुपे ने कहा कि 11 महिलाओं सहित ज्यादातर लोगों की मौत धुएं से दम घुटने के कारण हुई है। इसी अस्पताल में मृतकों और घायलों को लाया गया था।

यह भी पढ़ें- पहलवान सुशील कुमार की जीत पर समर्थकों ने काटा बवाल, जमकर चले लात-घूंसे- देखे वीडियो

एक आधिकारिक सूची के मुताबिक मृतकों में शामिल खुशबू बंसाली नाम की महिला अपना 29 वां जन्म दिन मना रही थी। इस सूची में 10 अन्य महिलाओं के नाम भी हैं। खुशबू के दादा बाबूलाल मेहता ने हादसे के लिए होटल प्रबंधन और नगर निकाय अधिकारियों को जिम्मेदार ठहराया।

उन्होंने कहा कि होटल ने बांस की सहायता से एक अस्थायी ढांचा बनाया था जिसमें आग लगने की आशंका थी। वहां आग बुझाने का कोई उपकरण नहीं था। यह पुलिस और नगर निकाय अधिकारियों की जिम्मेदारी है कि वे नियमों के उल्लंघन पर कार्रवाई करें।

लोअर परेल इलाके के कमला मिल परिसर स्थित ट्रेड हाऊस बिल्डिंग में ‘1 एबव' और ‘मोजो' स्थित है। यह स्थान एक वाणिज्यिक केंद्र भी है जहां राष्ट्रीय टीवी चैनलों के दफ्तर सहित कई कार्यालय भी हैं।

यह भी पढ़ें- अखाड़ा परिषद ने जारी की फर्जी बाबाओं की दूसरी लिस्ट, जानिए कौन है टॉप पर

राज्य में विपक्षी कांग्रेस और राकांपा ने कमला मिल आग हादसा को लेकर बीएमसी और राज्य सरकार की आलोचना की। उन्होंने इस हादसे की एक उच्च स्तरीय जांच की मांग की और कहा कि दोषी अधिकारियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाए।

कई घंटे में बुझी आग

भीषण आग ने समूची इमारत को करीब 30 मिनट में ही अपनी गिरफ्त में ले लिया। इसे बुझाने में कई घंटे लगे। आग लगने की वजह का पता नहीं चल पाया है। दमकल विभाग और पुलिसकर्मी मौके पर पहुंच गए। हादसे में झुलसे 35 लोगों को पब से निकालकर अस्पताल पहुंचाया गया।

मामला दर्ज, 2 हिरासत में

पुलिस ने भारतीय दंड संहिता की संबंधित धाराओं के तहत हृतेष सांघवी, जिगर सांघवी और पब चलाने वाले सी ग्रेड हॉस्पिटैलिटी के अभिजीत मनका के खिलाफ मामला दर्ज किया है। पुलिस ने आरोपियों में से दो को हिरासत में लिया है।

इनके खिलाफ धारा 337 (दूसरों के जीवन और व्यक्तिगत सुरक्षा को खतरे में डालना) और 338 (दूसरों के जीवन और व्यक्तिगत सुरक्षा को खतरे में डालकर गंभीर चोट पहुंचाना) के तहत मामला दर्ज किया गया है।

राष्ट्रपति, पीएम ने दुख जताया

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद और प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने हादसे पर शोक जताया है। राष्ट्रपति ने ट्वीट किया, मुंबई में आग लगने की दुखद घटना। मृतकों के परिजनों के प्रति संवेदनाएं और घायलों के शीघ्र स्वास्थ्य लाभ की कामना।

प्रधानमंत्री कार्यालय ने ट्वीट किया, मुंबई में आग लगने की घटना से दु:खी हूं। दु:ख की इस घड़ी में मेरी संवेदनाएं शोकसंतप्त परिजनों के साथ हैं। मैं घायलों के शीघ्र स्वस्थ होने की कामना करता हूं।

हादसे पर ऐसे बोल हेमा मालिनी

भाजपा सांसद हेमा मालिनी ने मुंबई की बढ़ती आबादी को जिम्मेदार बताते हुए कहा, निर्माण से पहले चेक किया जाना चाहिए कि जाने आने का रास्ता है या नहीं। मुंबई के अंदर एक और मुंबई बनाया जा रहा है। एक शहर के बाद दूसरे शहर पर विकास के लिए जाना चाहिए। जनसंख्या नियंत्रण के बारे में सोचना चाहिए।

नियमों की उल्लंघन का नतीजा

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता राधाकृष्ण विखे पाटिल ने बीएमसी के कथित भ्रष्ट कार्यों और कामकाज की सीबीआई जांच की मांग की। मुंबई कांग्रेस प्रमुख संजय निरूपम ने हादसे की जांच की मांग करते हुए कहा कि आग लगने की घटना अग्नि सुरक्षा नियमों के स्पष्ट उल्लंघन का नतीजा है।

आग लगी, वह अवैध प्रतिष्ठान

भाजपा सांसद किरीट सोमैया ने कहा कि उन्होंने फडणवीस और बीएमसी आयुक्त से मुंबई में इस तरह के सभी पबों और हुक्का पार्लरों में अग्निरोधी उपायों की विशेष ऑडिट कराने को कहा है।

उन्होंने दावा किया, मिल परिसर में इस तरह के कई प्रतिष्ठान अवैध हैं, जिसे बाद में नियमित कर दिया गया। जिस स्थान पर आग लगी, वह अवैध था।

214 साल पहले भी

214 साल पहले फरवरी, 1803 में हुए वीभत्स अग्निकांड ने बॉम्बे को बहुत नुकसान पहुंचाया। उस समय भी ब्रिटिश भारत के इस क्षेत्र में घनी आबादी रहती थी। अग्निकांड के बाद शहर का आंतरिक हिस्सा काफी बिगड़ गया और अंग्रेजों को अपने इस ठीकाने को फिर से ठीक करना पड़ा।

तब बॉम्बे में ही ईस्ट इंडिया कंपनी का मुख्यालय एक पुराने किले में था जहां फैली आग ने इसकी दीवार को नुकसान पहुंचाया और गिर गई। आग ने पुराने किले को अपने चपेट में ले लिया क्योंकि यह इलाका आवासीय और बाजार से घिरा हुआ था।

यह भी पढ़ें- मुंबई कमला मिल्स आग: बर्थडे गर्ल को मौत खींच लाई पब, देखें दर्दनाक वीडियो

घटना के बाद अंग्रेजों को समझ में आया कि इस शहर को संकरा नहीं छोड़ा जा सकता, इसका विस्तार किया जाना चाहिए। आज हम जिस मुंबई को जानते हैं वो अरब सागर में फैले 7 छोटे-छोटे आईलैंड से मिलकर बना है।

आज भी यह शहर अपनी आबादी लगातार के कारण लगातार संकरा होता जा रहा है। देश की सबसे घनी आबादी वाले शहरों में मुंबई भी शामिल है। 1996 में बॉम्बे का नाम बदलकर मुंबई कर दिया गया था।

Loading...
Share it
Top