Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

मुंबई: डॉक्टर ने नहीं लिया 500 का पुराना नोट, नवजात की मौत

समय पर इलाज न मिलने के कारण अगले दिन बच्चे ने दम तोड़ दिया।

मुंबई: डॉक्टर ने नहीं लिया 500 का पुराना नोट, नवजात की मौत
नई दिल्ली. 500 ऐर 1000 हजार के नोटों की बंदी के चलते भारतवर्ष के सभी लोगों को खासी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। इसी कड़ी में आगे कई लोगों की मौत भी हो गई है। हाल ही में मुंबई के गोवंडी में एक ऐसा ही मामला सामने आया है। यहां एक प्राइवेट नर्सिंग होम की डॉक्टर ने नवजात शिशु का इलाज करने से सिर्फ इसलिए इनकार कर दिया क्योंकि उसके माता-पिता के पास 500 के पुराने नोट थे। इलाज न मिलने के चलते बच्चे की हालत बिगड़ गई और इससे पहले उसे किसी और अस्पताल ले जाया जाता उसने दम तोड़ दिया।

ये है मामला
मृत बच्चे के माता-पिता का आरोप है कि गोवंडी के जीवन ज्योत हॉस्पिटल एंड नर्सिंग होम के डॉक्टरों ने उसका इलाज करने के लिए इसलिए इनकार कर दिया था क्योंकि उसके माता-पिता के पास सिर्फ 500 रुपये के ही नोट थे। समय पर इलाज न मिलने के कारण अगले दिन बच्चे ने दम तोड़ दिया। कारपेंटर का काम करने वाले बच्चे के पिता जगदीश शर्मा शुक्रवार को शिवाजी नगर पुलिस स्टेशन में इसकी शिकायत दर्ज कराने पहुंचे तो उन्हें एक लेटर लिखने की सलाह दी गई, जिसे बाद में महाराष्ट्र मेडिकल काउंसिल को भेजने की बात कही गई।
बता दें कि मंगलवार की शाम सरकार की तरफ से 500 और 1000 के नोट को बंद करने के ऐलान के दौरान साफ तौर पर कहा गया था कि सरकार अस्पतालों में ये नोट फिलहाल चलते रहेंगे लेकिन बावजूद इसके कई जगहों पर इन नोटों को लेने से इनकार किए जाने के मामले सामने आए हैं।
वहीं दूसरी ओर आरोपों का खंडन करते हुए अस्पताल की डॉक्टर शीतल कामथ ने कहा, 'महिला ने 9 नवंबर को घर पर ही बच्चे को जन्म दिया था। बच्चे का जन्म टॉइलट में हुआ था और उसका वजन 1.5 किलोग्राम था। हमारे पास नवजात बच्चों के लिए आईसीयू की व्यवस्था नहीं है, इसके चलते जच्चा और बच्चा दोनों को सियोन हॉस्पिटल के लिए रेफर कर दिया। लेकिन, संभवत: उनके परिजन उन्हें घर ले गए और शायद इसी के चलते बच्चे की हालत बिगड़ गई।'
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Next Story
Top