Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

मुंबईः ऑटो में मिली 8 दिन पहले जन्मी बच्ची

सीसीटीवी कैमरे की फुटेज में एक महिला बच्ची को ऑटो में रखकर जाती हुई दिख रही है।

मुंबईः ऑटो में मिली 8 दिन पहले जन्मी बच्ची
नई दिल्ली. मुंबई के 26 वर्षीय ऑटो-रिक्शा ड्राइवर सुनील भिले की आम जिंदगी में तब खास बन गई, जब उसे अपने ऑटो की पिछली सीट पर 8 दिन की प्यारी बच्ची मिली। सुनील ने बताया कि सोमवार की शाम को वह अपने दोस्त के माता-पिता को लेने विरार से वसई रेलवे स्टेशन गया था। उसने अपना ऑटो पार्किंग स्टैंड में खड़ा किया और स्टेशन के अंदर चला गया।

स्टेशन के अंदर जाने के बाद उसे पता चला कि ट्रेन को आने में अभी वक्त है। इसलिए वह वापस अपने ऑटो के पास लौट आया। तभी उसकी नजर ऑटो की पिछली सीट पर गई, जहां उसने देखा कि कपड़ों में लपेट कर एक बंडल रखा हुआ है। बंडल खोलने के बाद सुनील को उसमें एक 8 दिन पहले जन्मी प्यारी-सी बच्ची मिली। बच्ची सो रही थी। सुनील ने बताया कि बच्ची मिलने के बाद मैंने आसपास मौजूद लोगों से पूछताछ की, लेकिन बच्ची के माता-पिता का कुछ पता नहीं चला।

इसके बाद सुनील बच्ची को लेकर तुरंत विरार पुलिस स्टेशन पहुंचा, लेकिन पुलिस अधिकारी ने शिकायत दर्ज करने से इनकार कर दिया। उन्होंने कहा कि यह मामला हमारे इलाके का नहीं है, इस मामले को मानिकपुर पुलिस स्टेशन में जाकर दर्ज कराओ क्योंकि यह मामला उनके पुलिस स्टेशन के अंतर्गत आता है। इसके बाद सुनील मानिकपुर पुलिस स्टेशन पहुंचा और पुलिस अधिकारी को सारी घटना बयां की।

मिड-डे की रिपोर्ट के मुताबिक, इसके बाद पुलिस ने तुरंत कार्रवाई करते हुए एक एफआइआर दर्ज कर लिया और बच्ची को वसई विरार महानगर पालिका अस्पताल में भर्ती कराया गया। बाद में बच्ची को बेगतर देखभाल के लिए शताब्दी में एडमिट कराया गया। डॉक्टरों के मुताबिक, बच्ची की हालत अभी स्थिर और स्वस्थ है।

मानिकपुर पुलिस स्टेशन की सब-इंस्पेक्टर अर्चनी कोली ने बताया कि मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी गई है। स्टेशन और पार्किंग के पास लगे सीसीटीवी कैमरे की फुटेज में हमने पाया कि एक महिला ऑटो में बच्ची को रखकर चली गई। फिलहाल बच्ची को अस्पताल में भर्ती कराया गया है। बाद में बच्ची की देखभाल के लिए किसी अनाथालय में भेज दिया जाएगा।
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Next Story
hari bhoomi
Share it
Top