Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

साइकिल पंक्चर: इन बिंदुओं में समझिए पार्टी की कलह की असली वजह

रामगोपाल ने नई पार्टी बनाने के लिए चुनाव आयोग में आवेदन भी किया है।

साइकिल पंक्चर: इन बिंदुओं में समझिए पार्टी की कलह की असली वजह
लखनऊ. यूपी फिर गर्म है। यूपी गर्म है तो दिल्ली भी गर्म है। राख में दबा दी गई सपा के कुनबे में लगी आग फिर भड़क उठी है। पार्टी की कलह के पीछे मुलायम की दूसरी पत्नी का नाम आने के बाद ऐसी तलवारें खिंची कि रविवार को पहले सीएम अखिलेश ने चाचा शिवपाल और उनके करीबियों को मंत्रिमंडल से बर्खास्त कर दिया, तो दिन ढलने से पहले ही पार्टी मुखिया मुलायम सिंह यादव ने भाई प्रोफेसर रामगोपाल यादव की पार्टी से ही छुट्टी कर दी। रामगोपाल अखिलेश के सर्मथन में हैं और उन्होंने विधायकों को पत्र लिखकर कहा था कि जहां अखिलेश वहां विजय। माना जा रहा है कि अब सुलह के सारे रास्ते बंद हो गए हैं। पार्टी में अगले 24 घंटे अहम हैं। तय हो जाएगा कि सपा टूटेगी या बचेगी? सोमवार को मुलायम विधायकों की बैठक कर रहे हैं। इसमें कोई अहम फैसला हो सकता है। वहीं, रविवार को अखिलेश की बैठक में 183 विधायकों ने उनके प्रति अपना सर्मथन जताया। उधर,सपा सूत्रों की मानें तो सोमवार को अखिलेश को मुख्यमंत्री के पद से अपदस्थ करने के लिए राज्यपाल को चिट्ठी लिखी जा सकती है। खबर है कि रामगोपाल ने नई पार्टी बनाने के लिए चुनाव आयोग में आवेदन भी किया है। उनकी पार्टी का नाम राष्ट्रीय समाजवादी पार्टी और चुनाव चिन्ह मोटर साइकिल होगा।
ये होगा तो ये हो सकता है?..
क्या कर सकते हैं मुलायम?
* पार्टी को बचाने अखिलेश को हटाकर अपने को मुख्यमंत्री घोषित कर सकते हैं मुलायम।
* क्या होगा : इस कदम से भी पार्टी में बिखराव और तेज होगा। कोई एक नया धड़ा बन सकता है।

क्या कर सकते हैं अखिलेश?
* पार्टी में अलग-थलग पड़ने के बाद कुछ विधायकों को लेकर अलग हो सकते हैं एक नई पहचान लेकर। वे राज्यपाल को चिट्ठी लिखकर विस को भंग करा सकते हैं।
* क्या होगा : अखिलेश का यह कदम उनको भाजपा की तरफ ले जा सकता है। कोई नया गठबंधन खड़ा हो सकता है। विधानसभा भंग होती है तो 14 साल बाद एक बार फिर यूपी में राष्ट्रपति शासन लगेगा।

क्या कर सकती है भाजपा?
* भाजपा यूपी में सीधे-सीधे बढ़त लेगी और बताएगी कि राज्य को एक परिवार की बलि चढ़ाया जा रहा है।
* क्या होगा : सजिर्कल स्ट्राइक का फायदा तो मिलेगा ही और सपा की टूट उसे बहुमत की तरफ ले जा सकती है।
क्या कर सकते हैं शिवपाल?
* अखिलेश और उनके सर्मथकों को पार्टी से रामगोपाल की तरह कर सकते हैं 6 साल के लिए बर्खास्त।
* क्या होगा : शिवपाल संगठन पर अपनी पकड़ साबित करेंगे और मुलायम को मजबूत करेंगे।
अमर सिंह, आजम खान आदि का क्या होगा ?
अमर सिंह या तो खुद पार्टी छोड़ देंगे या साइलेंट हो जाएंगे। आजम खान हमेशा की तरह मुलायम और अखिलेश के बीच झूलते रहेंगे। वे अमर का विरोध करते रहेंगे। अंतत: वे मुलायम के साथ ही जाएंगे।
मुख्य बातें
* मुलायम ने रामगोपाल को पार्टी से 6 साल के लिए निकाला
* अगले 24 घंटे में हो जाएगा फैसला, सपा टूटेगी या बचेगी?
* अखिलेश ने शिवपाल सहित 4 लोगों को किया बर्खास्त
राज्यपाल को भेजी चिट्ठी
अखिलेश यादव ने चाचा शिवपाल यादव के अलावा ओमप्रकाश सिंह, नारद राय और शादाब फातिमा को भी बर्खास्त किया है। अखिलेश ने राज्यपाल राम नाइक को इन चार मंत्रियों की बर्खास्तगी की चिट्ठी भेज दी है।
क्या करेगी बसपा?
* बसपा सन्निपात की हालत में है। सजिर्कल स्ट्राइक और सपा की टूट के बीच वह कोई रास्ता तलाशेगी?
* क्या होगा : बसपा प्रमुख मायावती को अब औवेसी ही एक उम्मीद दिखेगी और वह उसी रास्ते जा सकती हैं।
क्या करेगी कांग्रेस?
* कांग्रेस भाजपा के इस आरोप को हवा दे सकती है कि यह काले धन की लड़ाई है, बाकी तो कांग्रेस वैसे ही बेदम है।
* क्या होगा : प्रशांत किशोर कोई गिमिक पैदा कर सकते हैं पर इस गिमिक से भी वोटों का मुड़ना अब रोका नहीं जा सकेगा।
किसने क्या कहा?
आजम खान : पार्टी के दूरदर्शी लोगों को यह पता था कि एक दिन ऐसा दिन जरूर आएगा। उन्होंने कहा कि अखिलेश के इस फैसले से किसको फायदा और किसको नुकसान होगा यह कहना अभी जल्दबाजी होगी। लेकिन एक शख्स ने पार्टी का नुकसान हो गया है।
स्मृति ईरानी : घर की महाभारत का प्रकोप जनता क्यों सहे। समाजवादी पार्टी की साइकिल अब पंचर हो रही है। ऐसे में अखिलेश सरकार जनता के सपनों को तोड़ रही है। इस बात का मुझे बहुत दुख है।
आगे की स्लाइड्स में पढ़िए खबर से जुड़ी अन्य जानकारी

खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Next Story
Top