Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

बजट सत्र के दूसरे चरण में पास हो सकता है मोटर वाहन संशोधन विधेयक 2017, ये होंगे नए नियम

सड़क सुरक्षा के मद्देनजर अहम मोटर वाहन (संशोधन) विधेयक 2017 को जल्द पास कराने के लिये सड़क सुरक्षा संगठनों और पीड़ितों ने सरकार से गुहार लगाई है।

बजट सत्र के दूसरे चरण में पास हो सकता है मोटर वाहन संशोधन विधेयक 2017, ये होंगे नए नियम

सड़क सुरक्षा के मद्देनजर अहम मोटर वाहन (संशोधन) विधेयक 2017 को जल्द पास कराने के लिये सड़क सुरक्षा संगठनों और पीड़ितों ने सरकार से गुहार लगाई है। उनका आग्रह है कि जनहित को देखते हुये विधेयक को बिना देरी के 5 मार्च से शुरू हो रहे बजट सत्र के दूसरे चरण में पास कराया जाना चाहिये।

2016 से लटका है विधेयक

गौरतलब है कि इस विधेयक को अगस्त 2016 में लोकसभा में पेश किया गया था। लोकसभा में पास होने के बाद इसे राज्यसभा भेजा गया। यह विधेयक 1988 के मोटर वाहन अधिनियम में अहम संशोधनों के साथ लाया गया है।

यह भी पढ़ें- केजरीवाल सरकार की बढ़ीं मुश्किलें, मुख्य सचिव मारपीट मामले में दो विधायकों को नोटिस

राजनितिक दलों से विधेयक जल्द पास कराने की अपील

कंज्यूमर वायस समेत अन्य संगठनों की ओर से 'मोटर वाहन संसोधन विधेयक 2017 पर हादसा पीड़ितों की आवाज और संसद के सदस्यों से समर्थन विषय' पर बुधवार को संवाददाता सम्मेलन का आयोजन किया गया। कार्यक्रम में पीड़ितों ने अपना दर्द बयां करते हुए राजनीतिक दलों से राजनीति को किनारे रखकर विधेयक को जल्द से जल्द पास कराने की अपील की है।

सड़क सुरक्षा के लिए अहम हे विधेयक

कंज्यूमर वायस के मुख्य परिचालन अधिकारी (सीओओ) असीम सान्याल ने कहा कि भारतीय सड़कों पर प्रतिदिन 1,317 दुर्घटनाएं होती हैं और 413 लोगों की मौत होती है। इसे देखते हुए सड़क सुरक्षा के लिहाज से यह विधेयक बेहद अहम है।

2016 में दुर्घटनाओं में आई कमी

विज्ञप्ति के मुताबिक, मंत्रालय की ओर से जारी 'भारत में सड़क दुर्घटना-2016' के अनुसार 2016 में देश में होने वाले सड़क हादसों की संख्या करीब 4.1 प्रतिशत गिरकर 4,80,652 थी, जो कि 2015 में 5,01,423 थी। 2016 में दुर्घटना में 1,50,785 लोगों की मौत हुई जबकि 2015 में यह आंकड़ा 1,46,133 था।

यह भी पढ़ें- इस्लामिक स्कॉलर कार्यक्रम में बोले पीएम मोदी- दुनिया के सभी मत और मजहब भारत की मिट्टी में पनपे

ये हैं नए प्रावधान

पुणे की संस्था 'परिसर' के रंजीत गाडगिल ने बताया कि मोटर वाहन संसोधन विधेयक में शराब पीकर गाड़ी चलाने (ड्रिंक एंड ड्राइव), बच्चों को गाड़ी देने जैसे यातायात उल्लंघन को लेकर कड़े प्रावधान किये गये हैं।

इसके साथ ही हिट एंड रन (टक्कर मारकर भाग जाने) से हुई मौतों के मामले में हर्जाना राशि को 25,000 रुपये से बढ़ाकर 2 लाख रुपये करने का प्रावधान है। हेलमेट पहनने को लेकर कड़े प्रावधान किये गये हैं।

Next Story
Top