Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

मां को थी गंभीर बीमारी, बेटी ने लीवर देकर बचा ली जान

महिला के इलाज में श्री नारायणा हास्पिटल के डाक्टरों ने अहम भूमिका निभाई।

मां को थी गंभीर बीमारी, बेटी ने लीवर देकर बचा ली जान

बार-बार पीलिया की शिकायत लेकर अस्पताल पहुंची महिला को गंभीर बीमारी थी और उसे लीवर ट्रांसप्लांट की जरूरत थी। उसकी पच्चीस साल की बेटी ने अपना आधा लीवर देकर मां की जान बचा ली।

महिला का लीवर ट्रांसप्लांट हैदराबाद में हुआ और उनकी जान बच गई। महिला के इलाज में श्री नारायणा हास्पिटल के डाक्टरों ने अहम भूमिका निभाई।

देवेंद्र नगर स्थित श्री नारायणा अस्पताल के लीवर ट्रांसप्लांट क्लीनिक में गैस्ट्रोलाजिस्ट डा. मनीष लुनिया और अपोलो अस्पताल हैदराबाद के लीवर ट्रांसप्लांट टीम द्वारा पुष्पा आदिल की जांच की गई, तो उन्हें लीवर सिरहोसिस नामक बीमारी की पुष्टि हुई और उन्हें तत्काल लीवर ट्रांसप्लांट की आवश्यकता थी।

इस मामले को लेकर उनके परिवार वालों की काउंसिलिंग की गई, तो उसकी पच्चीस साल की बेटी रूपाली अपना लीवर देने को तैयार हो गई। दोनों को हैदराबाद के अपोलो अस्पताल भेजा गया, जहां बेटी ने अपनी मां को अपना आधा लीवर डोनेट कर दिया।

इससे अपनी उसने मां की जान बचा ली। डाक्टरों ने बताया कि सर्जरी के बाद पुष्पा पूरी तरह ठीक है और बेटी होने का फर्ज निभाने वाली रूपाली भी पूरी तरह स्वस्थ है।

वायरस इंफेक्शन से लीवर खराब

डा. लुनिया ने बताया कि लीवर सिरहोसिस नामक इस बीमारी की मुख्य वजह शराब सेवन और वायरस इंफेक्शन है। इस बीमारी से बार-बार पेट फूलने, पीलिया होने, पैरों में सूजन, अनिद्रा, कमजोरी की शिकायत होती है। अगर इसका सही समय पर इलाज नहीं कराया जाए, तो स्थिति खराब हो सकती है।

Next Story
Top