Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

मोरक्कोः TV चैनल ने दिखाया, कैसे छुपाएं घरेलू हिंसा के निशान

इस कार्यक्रम के प्रसारित होने के बाद इसे लेकर काफी विवाद खड़ा हो गया।

मोरक्कोः TV चैनल ने दिखाया, कैसे छुपाएं घरेलू हिंसा के निशान
मोरक्को. मोरक्को के सरकारी टेलीविजन चैनल 2M ने एक प्रोग्राम के दौरान महिलाओं को यह सिखाया कि उनके साथ जब घरेलू हिंसा हो, तो किस तरह वे मारपीट के निशानों को मेकअप की मदद से छुपा सकती हैं।
इस कार्यक्रम के प्रसारित होने के बाद इसे लेकर काफी विवाद खड़ा हो गया और बड़ी संख्या में लोगों ने तीखी प्रतिक्रिया दी। सोशल मीडिया पर भी इसे लेकर लोगों ने बहुत नाराजगी जताई। आलोचना के बाद टीवी चैनल ने दर्शकों से माफी मांग ली है।
अपने रोजाना के कार्यक्रम 'सबाहियत' के एक हिस्से में दर्शकों को बताया गया कि सौंदर्य प्रसाधनों के इस्तेमाल से 'महिला के साथ हुई हिंसा के निशान को मेकअप की परतों के अंदर छुपाया जा सकता है।' कार्यक्रम को प्रस्तुत कर रही महिला होस्ट ने कहा, 'मेकअप की मदद से महिलाएं न्याय का इंतजार करते हुए भी सामान्य जीवन जी सकती हैं।'
इतना ही नहीं, होस्ट ने एक मॉडल के चेहरे पर फाउंडेशन और कंसीलर लगाकर बताया कि किस तरह मेकअप से घरेलू हिंसा के निशान ढक सकते हैं। मॉडल का चेहरा सूजा हुआ दिखाया गया था। इतना ही नहीं, मॉडल के चेहरे पर काले और नीले रंग के नकली चोट के निशान भी थे।
कार्यक्रम के अंत में होस्ट ने मुस्कुराते हुए कहा, 'हम उम्मीद करते हैं कि इन ब्यूटी टिप्स के इस्तेमाल से आपको सामान्य जिंदगी जीने में मदद मिलेगी।' यह कार्यक्रम 23 नवंबर को प्रसारित किया गया था। इस विडियो को सोशल मीडिया पर खूब साझा किया गया। दुनियाभर के हजारों लोगों ने लिखा कि वे इस विडियो को देखकर हैरान हैं। इस टीवी प्रोग्राम द्वारा माफी मांगे जाने और इनके खिलाफ कार्रवाई की अपील करते हुए एक ऑनलाइन याचिका भी दाखिल की गई, जिसपर सैकड़ों महिलाओं ने दस्तखत किया।
याचिका में लिखा गया है, 'अपने साथ हुई घरेलू हिंसा को मेकअप से न ढकें, अपने साथ ऐसा करने वाले को सजा दिलाएं।' जिस चैनल पर यह कार्यक्रम प्रसारित हुआ, उसने माफी मांगते हुए इस प्रोग्राम को 'अनुचित' बताया। चैनल ने इस 'फैसला करने में हुई संपादकीय चूक' बताया है।
एनबीटी के मुताबिक, मोरक्को के एक रेडियो कार्यक्रम को दिए गए अपने इंटरव्यू में कार्यक्रम की होस्ट ने सफाई देते हुए कहा, 'हम किसी भी सूरत में घरेलू हिंसा का समर्थन नहीं कर रहे हैं।' मोरक्को वर्ल्ड न्यूज में छपी एक खबर के मुताबिक, यहां अभी भी बड़े पैमाने पर महिलाओं के साथ अपराध और हिंसा की घटनाएं होती हैं। 2015 में हुए एक सर्वेक्षण में पाया गया कि मोरक्को की करीब 62.8 फीसद महिलाएं लैंगिक हिंसा की शिकार हैं।
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि, हमें फॉलो करें ट्विटर और पिंटरेस्‍ट पर-
Next Story
Top