Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh
Breaking

मुश्‍कि‍ल में अच्‍छे दि‍न, बारिश न हुई तो छूटेंगे सरकार के पसीने

तिलहन, दलहन और धान का उत्पादन तो बुरी तरह से प्रभावित होगा।

मुश्‍कि‍ल में अच्‍छे दि‍न, बारिश न हुई तो छूटेंगे सरकार के पसीने
नई दिल्ली. पंजाब में तीस साल का सबसे भयंकर सूखा पड़ने के आसार नजर आने लगे हैं। अगर बारि‍श नहीं हुई तो जल्‍द ही यह हालात पूरे देश में नजर आएंगे। अच्‍छे दि‍नों का वादा करने वाले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी मुश्‍ि‍कलों में घि‍र सकते हैं। अगर जुलाई के दूसरे और तीसरे सप्ताह में झमाझम बारिश न हुई तो मोदी सरकार के लिए मुश्किलें बढ़ सकती हैं। स्थिति अकाल जैसी हो सकती है, जिससे महंगाई की रफ्तार और बढ़ सकती है।
तिलहन, दलहन और धान का उत्पादन तो बुरी तरह से प्रभावित होगा ही, साथ ही प्याज समेत अन्य सब्जियों की कीमतों में तेजी आ सकती है। ऐसी स्थिति से निपटना, मोदी सरकार के लिए बड़ी चुनौती होगी। इसके अलावा बिजली उत्पादन भी घटेगा, जिससे संकट गहरा सकता है। सूत्रों के अनुसार गुरुवार को मौसम विभाग ने पीएम को एक प्रेजेटेंशन दिया था। इसमें साफ तौर पर कहा गया था कि 10 से 20 जुलाई तक का समय मॉनसून के लिहाज से काफी महत्वपूर्ण है। अगर इस दौरान सही तरीके से बारिश नहीं हुई, तो मामला काफी गंभीर रूप ले सकता है।
इसके लिए सरकार को तैयार रहना चाहिए। हालांकि मौसम विभाग ने यह भी कहा है कि जुलाई के दूसरे सप्ताह में बेहतर बारिश होने के आसार 50-50 पर्सेंट हैं। स्काईमेट के सीईओ जतिन सिंह का मानना है कि 4 जुलाई को इस बात के संकेत मिल सकते हैं कि आगे मॉनसून की चाल कैसी होगी। अगर संकेत बुरे मिले, तो सरकार को अपनी तरफ से स्थिति से निपटने के लिए तैयारियां शुरू कर देनी चाहिए।
नीचे की स्‍लाइड्स में पढ़ि‍ए, जून में 45 प्रति‍शत कम रही बारि‍श-
खबरों की अपडेट पाने के लिए लाइक करें हमारे इस फेसबुक पेज को फेसबुक हरिभूमि और हमें फॉलो करें ट्विटर पर-
Next Story
Top