Top
Hari bhoomi hindi news chhattisgarh

पीएम मोदी बोले- कहां हैं अवॉर्ड वापसी गैंग

भाजपा ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की जन कल्याण नीतियों को ‘क्रांतिकारी'' करार दिया।

पीएम मोदी बोले- कहां हैं अवॉर्ड वापसी गैंग

भाजपा की राष्ट्रीय कार्यकारणी की बैठक में तीन तलाक के मुद्दे का जिक्र करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि मुस्लिम महिलाओं के साथ न्याय होना चाहिए। उन्होंने ने कहा कि अगर कोई सामाजिक बुराई है तो समाज को जागना चाहिए। न्याय प्रदान करने की दिशा में प्रयास करना चाहिए। प्रधानमंत्री ने इस बात पर जोर दिया कि मुस्लिम महिलाओं को शोषण का सामना नहीं करना चाहिए।

बैठक में पार्टी कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि इस मुद्दे को लेकर मुस्लिम समुदाय में संघर्ष नहीं होना चाहिए। उन्होंने कहा, वह केवल सामाजिक न्याय की बात कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि हमारी मुस्लिम बहनों को न्याय मिलना चाहिए। उनके साथ अन्याय नहीं होना चाहिए। किसी का शोषण नहीं होना चाहिए।

केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने संवाददाताओं से कहा कि प्रधानमंत्री ने कहा कि हम उनके बीच संघर्ष पैदा नहीं करना चाहते। हम नहीं चाहते कि इस मुद्दे को लेकर मुस्लिम समुदाय के भीतर संघर्ष की स्थिति बने। हमें समाज को जागृत करना है और उन्हें न्याय दिलाने की दिशा में प्रयाय करना है। गडकरी ने कहा कि प्रधानमंत्री की यह भावना है। यह पूछे जाने पर कि क्या प्रधानमंत्री के भाषण के दौरान विपक्ष की ओर से ईवीएम के विरोध का मुद्दा सामने आया, गडकरी ने कहा कि प्रधानमंत्री ने पार्टी कार्यकर्ताओं से इन ‘मनगढ़ंत' मुद्दों पर ध्यान नहीं देने को कहा।

अवॉर्ड वापसी वाले कहां हैं?

पीएम मोदी ने विपक्ष पर निशाना साधने के साथ उन कलाकारों और साहित्याकरों पर चुटकी ली, जिन्होंने देश में असहिष्णुता बढ़ने की बात कहकर अपने अवॉर्ड वापस कर दिए थे। पीएम ने कहा, विपक्ष हर चुनाव से पहले नए मुद्दे ईजाद करता है। बिहार चुनाव से पहले अवॉर्ड वापसी की गई।

बड़बोले नेताओं को नसीहत

विपक्ष पर हमले के साथ-साथ पीएम ने पार्टी नेताओं को भी नसीहत दी। उन्होंने कहा कि पार्टी नेता संयम से काम करें। जीत से ज्यादा उत्साहित न हों। नेता बड़बोलेपन से बचें। बयानबाजी न करें। अगर किसी को शिकायत है तो वो मुझसे से बात करें।

मिशन-2019

भाजपा ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की जन कल्याण नीतियों को ‘क्रांतिकारी' करार दिया। प्रस्ताव में कहा गया है कि, भाजपा देश के लोगों का आह्वान करती है कि 2019 में वह नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में सरकार बनाने का संकल्प लें ताकि पूरे देश में विकास और कल्याण की नीतियों को आगे बढाना जारी रखा जा सके।

इन पर प्रस्ताव

भाजपा की राष्ट्रीय कार्यकारणी की बैठक में एक प्रस्ताव पारित किया गया जिसमें जीएसटी, स्वास्थ्य नीति, मुद्रा योजना और जनधन खाते खोलने को गरीबोन्मुखी कार्यो के रुप में पेश किया गया। इसमें जोर दिया गया कि गरीबोन्मुखी मुद्दा अब भाजपा से जुड़ गया है क्योंकि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को जनता का विश्वास हासिल है।

विपक्ष पर निशाना

भाजपा ने राष्ट्रीय पिछड़ा वर्ग आयोग को संवैधानिक दर्जा देने के मकसद से लाए गए ऐतिहासिक विधेयक को अवरुद्ध करने के लिए कांग्रेस और अन्य विपक्षी दलों पर निशाना साधा है। अन्य पिछड़े वर्गों के बीच अपना आधार मजबूत करने का प्रयास करते हुए भाजपा ने राष्ट्रीय कार्यकारिणी में अलग से प्रस्ताव पारित किया। इसमें विधेयक के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सराहना की गई तथा राज्यसभा में विधेयक को रोकने लिए विरोधियों की निंदा की गई।


मंदिर में मोदी

पीएम मोदी भुवनेश्वर के लिंगराज मंदिर में करीब 25 मिनट रुके। उन्होंने भगवान लिंगराज समेत मंदिर में मौजूद देवी-देवताओं की फूल, दूध और बेलपत्र पूजा की। मोदी ने लिंगराज मंदिर परिसर का जायजा लिया। उन्होंने यहां मंदिर के इतिहास और परंपराओं की भी जानकारी ली।

इधर, पर्सनल लॉ बोर्ड का ऐलान

देश भर में तीन तलाक पर छिड़ी बहस के बीच ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड ने रविवार को ऐलान किया कि जो लोग शरिया कारणों के बिना तीन तलाक देंगे, उनका सामाजिक बहिष्कार किया जाएगा। बोर्ड के महासचिव मौलाना वली रहमानी ने बोर्ड की कार्यकारिणी की दो दिवसीय बैठक के दूसरे और अंतिम दिन यहां प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि बोर्ड ने तीन तलाक की व्यवस्था में किसी भी तरह का परिवर्तन करने से इंकार किया है लेकिन साथ ही तलाक के लिए एक आचार संहिता भी जारी की है। इसकी मदद से तलाक के मामलों के शरई निर्देशों की असली सूरत सामने रखी जा सकेगी। मौलाना रहमानी ने बोर्ड की बैठक में पारित प्रस्ताव की चर्चा करते हुए बताया कि बोर्ड ने यह फैसला किया है कि बिना किसी शरई कारण के एक ही बार में तीन तलाक देने वाले लोगों का सामाजिक बहिष्कार किया जाए। उन्होंने कहा कि बोर्ड तमाम उलेमा और मस्जिदों के इमामों से अपील करता है कि इस कोड आफ कंडक्ट को जुमे की नमाज के खुतबे में पढ़कर नमाजियों को जरूर सुनाएं और उस पर अमल करने पर जोर दें।

Next Story
Top